किराये में बढ़ोतरी का असर: दिल्ली मेट्रो में यात्रियों की घटती संख्या के बाद अब स्मार्ट कार्ड की ब्रिक्री में आई गिरावट

0

डीएमआरसी ने पिछले महीने 10 अक्टूबर को किराए में जबरदस्त बढ़ोतरी की थी, जिसकी अलोचना आम जनता से लेकर दिल्ली सरकार तक ने की थी। दिल्ली मेट्रो के बढ़े किराए का आम जनता के साथ दिल्ली मेट्रो पर इसका कितना असर पड़ा है उसके नतीजे अब सामने आ रहें है।

मेट्रो स्मार्ट कार्ड

अभी हाल ही में आरटीआई के जवाब में खुलासा हुआ था कि 10 अक्टूबर को किराया बढ़ने के बाद हर रोज तीन लाख से ज्यादा यात्री कम हुए हैं। मेट्रो में रोजाना सफर करने वाले औसत यात्रियों की संख्या सितंबर में 27.4 लाख थी, जो घटकर अक्टूबर में 24.2 लाख रह गई। यात्रियों की तादाद में यह करीब 11 फीसदी की गिरावट है।

मेट्रो ट्रेन में यात्रियों की संख्या घटने के साथ ही अब स्मार्ट कार्ड की बिक्री में भी गिरावट दर्ज की जा रही है। इस बात का खुलासा सूचना का अधिकार (आरटीआई) के तहत डीएमआरसी से मिले एक सवाल के जबाव से हुआ है।

आरटीआई के जवाब में मुहैया कराए गए आंकड़ों के अनुसार पिछले साल जुलाई, अगस्त, सितंबर और अक्टूबर में मेट्रो ने प्रतिदिन करीब 15,650 कार्डों की बिक्री की थी। इस साल इस दौरान यह आंकड़ा गिरकर 12,250 पर पहुंच गया।

इस मुद्दे पर दिल्ली मेट्रो रेल निगम (डीएमआरसी) ने कहा कि कार्डों की बिक्री में भले अभी अंतर है पर इसके बावजूद स्मार्ट कार्ड उपयोगकर्ताओं में बढ़ोतरी दर्ज की गई है। जबकि आंकड़े बताते हैं कि पिछले साल जुलाई, अगस्त, सितंबर और अक्तूबर में स्मार्ड कार्ड की बिक्री रोजाना क्रमश: 16000, 16500, 15200 और 14900 थी। वहीं इस साल इन महीनों में स्मार्ड कार्ड की बिक्री क्रमश: 12900,12400,11700 और 12000 रही।

मेट्रो ने इस दौरान दो बार मई और अक्टूबर में अपने किराए में बढ़ोतरी की है। अक्टूबर में दूसरी बार किराए में वृद्धि के बाद रोजाना यात्रियों की संख्या में करीब तीन लाख की गिरावट आई है।

डीएमआरसी और सेंटर ने कहा कि यात्रियों की संख्या में आई गिरावट के लिए केवल किराए में वृद्धि को जिम्मेदार नहीं ठहराया जा सकता, बल्कि इसके लिए रविवार, दीवाली और छठ पूजा आदि भी जिम्मेदार है। उन्होंने किराए में बढ़ोतरी के फैसले को कंपनी की कार्यक्षमता के लिए आवश्यक बताते हुए ठीक ठहराया।

किराया बढ़ने के बाद पांच किमी से ज्यादा का सफर तय करने वाला हर यात्री प्रभावित हुआ हे। जबकि 32 किमी से ज्यादा की यात्रा के लिए अधिकतम किराया अब 60 रुपए है। बता दें कि, 8 मई को डीएमआरसी बोर्ड ने किराया समिति की मंजूरी को पास कर दिया था।

इस फैसले के बाद दिल्ली मेट्रो में न्यूनतम किराया 8 रुपये की जगह 10 रुपये हो गया है जबकि अधिकतम किराया 50 रुपये तक पहुंच गया। मेट्रो किराए के नए स्लैब के तहत 10 रुपये, 15 रुपये, 20 रुपये, 30 रुपये, 40 और 50 रुपये किराए तय किए गए हैं। अक्टूबर से नई किराया स्कीम के तहत अधिकतम किराया 60 रुपये तक पहुंच गया है।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here