रायबरेली से कांग्रेस विधायक अदिति सिंह ने ‘बस सियासत’ पर अपनी ही पार्टी पर खड़े किए सवाल

0

कोरोना लॉकडाउन के बीच उत्तर प्रदेश में प्रवासी मजदूरों के लिए कांग्रेस की तरफ से एक हजार बसें चलाने का मामला लगातार गरमाता जा रहा है। इस मामले पर पहले यूपी सरकार और प्रियंका गांधी आमने-सामने आ गईं। इस बीच, रायबरेली से कांग्रेस विधायक अदिति सिंह ने पूरे मामले पर अपनी पार्टी के रुख की कड़ी आलोचना की है, साथ ही सीएम योगी की तारीफ भी की है। अदिति सिंह ने प्रियंका गांधी द्वारा यूपी सरकार को भेजी बसों की लिस्ट पर फर्जीवाड़ा करने का आरोप लगाया है।

अदिति सिंह
फाइल फोटो: अदिति सिंह

कांग्रेस विधायक अदिति सिंह ने अपने ट्वीट में लिखा, “आपदा के वक्त ऐसी निम्न सियासत की क्या जरूरत,एक हजार बसों की सूची भेजी, उसमें भी आधी से ज्यादा बसों का फर्जीवाड़ा, 297 कबाड़ बसें, 98 आटो रिक्शा व एबुंलेंस जैसी गाड़ियां, 68 वाहन बिना कागजात के, ये कैसा क्रूर मजाक है, अगर बसें थीं तो राजस्थान,पंजाब, महाराष्ट्र में क्यूं नहीं लगाई।”

एक अन्य ट्वीट में अदिति सिंह ने लिखा, “कोटा में जब यूपी के हजारों बच्चे फंसे थे तब कहां थीं ये तथाकथित बसें, तब कांग्रेस सरकार इन बच्चों को घर तक तो छोड़िए, बार्डर तक ना छोड़ पाई, तब श्री योगी आदित्यनाथ जी ने रातों रात बसें लगाकर इन बच्चों को घर पहुंचाया, खुद राजस्थान के सीएम ने भी इसकी तारीफ की थी।”

बता दें कि, अदिति सिंह लंबे समय से कांग्रेस विरोधी गतिविधियों में शामिल रही हैं। पिछले साल पार्टी व्हिप का उल्लंघन करते हुये अदिति विधानसभा के विशेष सत्र में शामिल होने पहुंची थीं। इसके बाद उन्हें पार्टी की तरफ से कारण बताओ नोटिस भी जारी किया गया था। कश्मीर से धारा 370 हटाने के मसले पर भी अदिति ने कांग्रेस से अलग अपना पक्ष रखा था।