BJP के खिलाफ एकजुट हुआ विपक्ष, BSP के पोस्टर पर पहली बार मायावती और अखिलेश साथ-साथ

0

भारतीय जनता पार्टी(बीजेपी) के विजयी रथ को रोकने के लिए विपक्ष हर मुमकिन कोशिश कर रहा है ताकि 2019 के आम चुनाव में उसे हरा सके। इसके लिए अब विपक्षी पार्टियों की तरफ से कोशिशें भी शुरू हो चुकी हैं। विपक्षी पार्टियां अपने पूराने मतभेद भुलाकर बीजेपी को मात देने की जुगत में हैं।

PHOTO: @BspUp2017

जी हां, रविवार की देर शाम बहुजन समाज पार्टी(बीएसपी) के ऑफिशल ट्विटर अकाउंट से हुए एक ट्वीट ने विपक्षी एकता की कोशिशों को एक कदम और आगे बढ़ाया। शायद पहली बार मायावती के पोस्‍टर में धुर विरोधी समाजवादी पार्टी(सपा) नेता अखिलेश यादव की तस्‍वीर भी दिखने लगी है।

बीएसपी ने ट्वीट कर विपक्षी एकता को समय की जरूरत बताते हुए एक तस्वीर जारी की, जिसमें पहली बार मायावती के साथ सपा प्रमुख व पूर्व सीएम अखिलेश यादव को भी जगह दी गई। इसमें इन दोनों नेताओं के अलावा आरजेडी प्रमुख लालू प्रसाद यादव, तेजस्वी यादव, कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी और बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के साथ जेडीयू के बागी नेता शरद यादव भी नजर आ रहे हैं।

https://twitter.com/BspUp2017/status/899227680628908032

इन सभी नेताओं में मायावती की तस्वीर सबसे बड़ी है, जबकि बाकी अन्य नेताओं की फोटो एक समान लगाया गया है। आपको बता दें कि बीएसपी का विपक्षी एकता की कोशिश में यह ट्वीट पटना में होने वाली रैली से ठीक एक हफ्ता पहले आया है। हालांकि बीएसपी के राष्ट्रीय महासचिव सतीश चंद्र मिश्रा ने कहा है कि बीएसपी का कोई आधिकारिक ट्विटर हैंडल नहीं है।

जानकारी के लिए आपको बता दें कि 27 अगस्‍त को पटना में लालू प्रसाद यादव की राजद की पहल पर विपक्ष को एकजुट करने के मकसद से एक बड़ी रैली का आयोजन कर रखा है। इसमें कई बड़े विपक्षी नेता एक साथ एक मंच पर आएंगे। इस रैली में अखिलेश यादव भी शिरकत करने पहुंच रहे हैं।

हालांकि इस रैली में मायावती जाएंगी या नहीं इस बारे में अभी तय नहीं है, लेकिन बीएसपी सूत्रों के अनुसार बीएसपी के वरिष्‍ठ नेता सतीश चंद्र मिश्रा शामिल होंगे। इस रैली में कांग्रेस, एसपी, बीएसपी, टीएमसी सहित कई राजनीतिक दल के नेता शामिल हो रहे हैं।

वहीं, राज्यसभा की सदस्यता से इस्तीफा दे चुकीं मायावती के राजनीतिक कदमों को लेकर एक सितंबर को गुजरात के वलसाड में होने वाली कांग्रेस की रैली पर नजर है। कांग्रेस नेताओं ने दावा किया था कि मायावती ने प्रस्तावित रैली में भाग लेने की सहमति दी है। बता दें कि गुजरात में इसी साल के अंत तक विधानसभा चुनाव होने वाला है।

BSP ने बताया फर्जी

हालांकि, बीएसपी के वरिष्ठ नेता और महासचिव सतीश चंद्र मिश्रा ने आधिकारिक बयान जारी कर इस पोस्टर को फर्जी करार दिया है। मिश्रा ने स्पष्ट किया है कि बीएसपी का आधिकारिक ट्विटर अकाउंट नहीं है। मिश्रा ने बयान जारी कर कहा, ‘बीएसपी का कोई आधिकारिक ट्विटर अकाउंट नहीं है। बीएसपी के ट्विटर हैंडल के नाम से पोस्टर जारी करने का प्रश्न ही नहीं उठता है।’

 

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here