मुंबई हाई कोर्ट ने महाराष्ट्र सरकार को लगाई फटकार, कहा- ज्यादा मत बोलिए, क्या आप एक भी मौत को रोक पाए हैं?

1

मुंबई हाई कोर्ट ने बुधवार को राज्य भर में आदिवासी क्षेत्रों में बच्चों की कुपोषण से संबंधित मौतों की बढ़ती हुई संख्या को रोकने में विफल रहने पर महाराष्ट्र सरकार को जमकर फटकार लगाई।

मुंबई हाई कोर्ट

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, मुख्य न्यायाधीश मंजुला चेल्लूर और न्यायाधीश एनएम जामदर ने सरकार से कहा कि उनके कल्याण के लिए राज्य में अनेक योजनाएं हैं लेकिन सरकार ने उनमें से किसी का भी सही तरह के क्रियान्वयन नहीं किया है।

ख़बरों के मुताबिक, हाईकोर्ट ने यह टिप्पणी तब की जब उसे बताया गया कि पिछले दो महीनों में आदिवासी क्षेत्र में कुपोषण और बीमारियों की वजह से 180 बच्चों की मौत हो चुकी है। ‘ज्यादा मत बोलिए। क्या आप एक भी मौत को रोक पाए हैं? साथ ही उन्होंने कहा कि, कल्याणकारी राज्य का मतलब बड़ी-बड़ी इमारतें व सड़कें बनाना नहीं है बल्कि लोगों को बेहतर स्वास्थ्य सुविधाएं व भोजन देना भी है।

साथ ही कोर्ट ने सरकार से कहा कि, ‘आंगनवाड़ियों के बच्चों को मसूर दाल दी जा रही है। क्या यही पोषणकारी भोजन है? आपके पास उनके लिए काफी धन है। लेकिन यह धन जाता कहां है? क्या आप यह चाहते हैं कि जनता इस धन का हिसाब पूछे? हाईकोर्ट ने अगली सुनवाई के दौरान याचिकाकर्ता को आदिवासी इलाकों की जरूरतों की सूची पेश करने को कहा है। ताकि उसके आधार पर जरूरी निर्देश जारी किए जा सके।

गौरतलब है कि न्यायालय में इस विषय पर अनेक जनहित याचिकाएं दायर हैं और वे यह साबित करती हैं कि विदर्भ के मेलघाट इलाके और अन्य आदिवासी इलाकों में कुपोषण और बीमारियों से कितनी ज्यादा मौत हो रही हैं और बच्चे बीमार पड़ रहे हैं।

 

1 COMMENT

  1. Crooks talk one thing when in opposition and do the reverse ;when coming to power. Why Modi and Irani is silent now for the increase of diesel and petrol price rise. Country is getting ruined being ruled by such double standard irresponsible stunt master leaders. These are not film dialogues to laugh at but reality show affecting the nation. There is no accountability and answer-ability. Is the country’s administration in wrong and incompetent hands. Only anti nationals can keep silence on the stripping of the poor dalit women in public with mute spectators watching without any positive reaction that staring at the road show of upper class people in Gujart stripping women and asssaulting them and attacking men for watching gharba dance, having mustach saying only upper class can have it. Is this the Gujarat style of Governance of Modi that is being continued even now. People know how land grabbing of poor farmers were doing with help of police during Modi regime as CM of Gujarat shown in videos; given to rich business at throw away prices. Probably this is the worst govt by a national party in center and in states wher state sponsored anarchy seems to prevail. And if people tell what they observe and opine then FIRs are lodged to threaten any dissenting voice by autocratic and dictatorial govt like they did to Prakash Raj the noted film actor, like jailing the Editor of TEHELKA on unsubstantiated charges by a woman staff travelling together in lift.
    While no action on Smriti Irani whose entourage on road in Delhi caused an accident of car ahead and their neglect and ;delay in getting medical assistance caused loss of life of a person. Most heartless inhuman arrogant attitude and tolerated despite circulating a doctored video with false accusations against the JNU students who won elections defeating the ABVP
    during victory celebrations. Crookish criminal minded in governance, like Sushma swaraj and Vasundara Raje who denied any assistance given to a fugitive Lalit Modi and when documentary proof was given by TIMES NOW got subdued and accepted clandestine involvement with misuse of official position as alleged by the media but protected by BJP with no action whatsoever. Jaitley defamation case in court against AAP members remains in court for their accusation with documentary and circumstantial evidences along with BJP MLAs but case not coming ahead for hearing for long.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here