अर्नब गोस्वामी ने मनमोहन सिंह का भारत का प्रधानमंत्री बनना ‘देश का दुर्भाग्य’ बताया, ‘किचन’ में तब्दील हुआ रिपब्लिक टीवी का स्टूडियो

0

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने लोकसभा चुनाव से ठीक पहले सोमवार (25 मार्च) को एक बड़ा दाव चलते हुए ‘न्यूनतम आय योजना’ (न्याय) के तहत प्रत्येक भारतीय की 12,000 रुपए प्रति माह आय सुनिश्चित करने और पांच करोड़ गरीब परिवारों को प्रति वर्ष 72,000 रुपये देने की घोषणा की। राहुल गांधी ने एक विशेष संवाददाता सम्मेलन में बताया कि कांग्रेस ने भारत में गरीबी खत्म करने का संकल्प लिया है। इसके लिए पार्टी दुनिया में अभूतपूर्व और ऐतिहासिक ‘न्यूनतम आय योजना’ (न्याय) लेकर आएगी।

राहुल गांधी ने कहा कि उनकी पार्टी की सरकार बनने पर देश के 20 प्रतिशत सबसे गरीब परिवारों में से हर एक परिवार को सालाना 72 हजार रुपये (6 हजार रुपये महीना) दिए जाएंगे। राहुल की घोषणा के बाद केंद्रीय वित्त मंत्री जेटली ने निशाना साधते हुए कहा कि कांग्रेस ने हमेशा योजनाओं के नाम पर सिर्फ छल-कपट किया है। उन्होंने आरोप लगाया कि कांग्रेस का इतिहास गरीबी हटाने के नाम पर सिर्फ राजनीतिक व्यवसाय करने का रहा है। कांग्रेस ने गरीबी हटाने के लिए कभी संसाधन नहीं दिए।

कई विशेषज्ञों के लिए, राहुल गांधी की यह घोषणा लोकसभा चुनावों में भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के अभियान के लिए एक निर्णायक झटका था। साथ ही, बीजेपी समर्थक देश के तमाम न्यूज चैनल और टीवी एंकर भी कांग्रेस अध्यक्ष के इस घोषणा से बैकफुट पर आ गए हैं। इस क्रम में रिपब्लिक टीवी के अर्नब गोस्वामी भी शामिल थे, जिन्होंने अपनी प्राइम टाइम डिबेट के दौरान अपना आपा तक खो दिया और राहुल गांधी को झूठा बताते हुए मनमोहन सिंह का भारत का प्रधानमंत्री बनना ‘देश का दुर्भाग्य’ करार दे दिया।

गोस्वामी ने अपनी बहस की शुरूआत करते हुए कहा कि राहुल गांधी को अपनी दादी की तरह बेवकूफ बनाने की कोशिश नहीं करनी चाहिए। उनकी दादी इंदिरा गांधी द्वारा दिया गया ‘गरीबी हटाओ’ का नारा, आप सभी जानते हैं, मुझे पता है, इस देश के लोगों के साथ सबसे बड़ा धोखा और झूठ था। उन्होंने कहा कि राहुल गांधी अब मध्य प्रदेश के किसानों को धोखा दे रहे हैं, राजस्थान के गरीब लोगों को बेवकूफ बना रहे हैं और कर्नाटक में किसानों के भाग्य को नष्ट कर उन्हें अपमानित कर रहे हैं।

चैनल के संस्थापक ने कहा कि राहुल गांधी को झूठी योजना का वादा करके 130 करोड़ भारतीयों को झांसा देने की कोशिश नहीं करनी चाहिए। गोस्वामी ने वित्त मंत्री अरुण जेटली और केंद्रीय मंत्री राज्यवर्धन सिंह राठौर जैसे बीजेपी नेताओं की प्रतिक्रियाओं को शामिल करते हुए एक रिपोर्ट भी चलाई। बता दें कि कांग्रेस रिपब्लिक टीवी का बहिष्कार कर रही है। देखते ही देखते वह आक्रामक होने लगे और कुछ देर बाद चैनल का स्टूडियो ‘किचन’ में तब्दील होने लगा। गोस्वामी ने राहुल गांधी को 50 वर्षीय किशोर के रूप में संबोधित करते हुए गांधी का बचाव करने वाले एक पैनलिस्ट से कहा कि आप एक ‘प्याज’ हैं।

उन्होंने कहा कि मैं एक दयालु चाकू हूं, इसलिए मैं आपसे यह चुनने के लिए कह रहा हूं कि क्या आप छीलना पसंद करेंगे या कटा हुआ होना चाहते हैं? हालांकि, उन्होंने बाद में स्पष्ट किया कि वह केवल उपमा के रूप में छीलने और टुकड़े करने की बात कर रहे थे। गांधी का समर्थन करने वाले एक अन्य पैनलिस्ट का हवाला देते हुए उन्होंने कहा कि मैं तुम्हें छीलूंगा, तुम्हें काटूंगा और तुम्हें भी भूनकर तुम्हें ग्रिल भी करूंगा। चिंता मत करो, मैं सब कुछ करूंगा। एक पैनलिस्ट की प्रतिक्रिया पर गोस्वामी ने कहा कि मैं आपको पीसने जा रहा हूं।

राहुल गांधी के बाद पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह पर हमला करते हुए गोस्वामी ने कहा कि आप जानते हैं कि मनमोहन सिंह नाम का एक व्यक्ति था, जो दुर्भाग्य से भारत का प्रधानमंत्री था। गोस्वामी ने मनमोहन सिंह को सबसे ‘अक्षम प्रधानमंत्री’ करार दिया, जिसे लेकर एक पैनलिस्ट में तीखी आपत्ति जताई। वहीं, गोस्वामी ने शांति से जवाब देते हुए कहा कि मुझे आपके समर्थन की आवश्यकता नहीं है। यह एक लोकतांत्रिक देश है। बता दें कि रिपब्लिक टीवी की स्थापना गोस्वामी ने 2017 में बीजेपी के राज्यसभा सांसद राजीव चंद्रशेखर की मदद से की थी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here