BJP शासित झारखंड में एक और मुस्लिम शख्स की पिटाई से मौत! तबरेज अंसारी को ‘जय श्री राम’ बोलने को किया गया मजबूर

0

भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) शासित झारखंड में एक और मुस्लिम शख्स की हिंदुत्व भीड़ द्वारा कथित तौर पर पिटाई किए जाने के बाद उसकी मौत हो गई है। खरसावां जिले के सरायकेला थाना अंतर्गत धातकीडीह गांव में कथित चोरी के आरोप में पकड़े गए खरसावां के कदमडीहा निवासी 24 वर्षीय तबरेज अंसारी की शनिवार को सरायकेला मंडल कारा में मौत हो गई। सोशल मीडिया पर वायरल वीडियो के मुताबिक, भीड़ द्वारा कथित तौर पर तबरेज को ‘जय श्री राम’ और ‘जय हनुमान’ का लगाने के लिए मजबूर किया गया और इस दौरान उसकी बेरहमी से पिटाई की गई।

18 जून की देर रात तबरेज को ग्रामीणों ने चोर बताकर पकड़ लिया और ग्रामीणों द्वारा उसकी जबरदस्त पिटाई की गई। आरोप है कि उससे नाम पूछकर कथित तौर पर ‘जय श्री राम’ और ‘जय हनुमान’ के नारे लगवाए गए। ग्रामीणों द्वारा तबरेज को पूरी रात बांधकर रखा गया था। बाद में सुबह सूचना मिलने पर पुलिस उसे उसी हालत में थाने ले गई। इस दौरान तबरेज को काफी चोटें आई थीं। जिसका इलाज सदर अस्पताल में कराने के बाद सरायकेला पुलिस द्वारा तबरेज को जेल भेज दिया गया था, जहां शनिवार यानी 22 जून को उसकी मौत हो गई।

मीडिया रिपोर्ट खबरों के मुताबिक, 24 वर्षीय तबरेज पुणे में एक वेल्डर के रूप में काम करता था और अपने परिवार के साथ ईद मनाने के लिए खरसावां जिले के अपने गांव आया था, जिसने अपनी यात्रा के दौरान अपनी शादी की योजना भी बनाई थी। तबरेज़ की पिटाई का एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है जिसमें कथित तौर पर तबरेज का नाम पूछकर इसकी पिटाई की जा रही है और फिर इससे जोर-जोर से ‘जय श्री राम’ और ‘जय हनुमान’ के नारे लगवाए जा रहे हैं।

हालांकि, पुलिस ने ‘जनता का रिपोर्टर’ से बातचीत में धार्मिक नारों को लेकर ग्रामीणों द्वारा की गई पिटाई के दावों को खारिज कर दिया है। बता दें कि इससे पहले भी झारखंड में कई बेकसूर मुस्लिम शख्स की हिंदुत्व भीड़ द्वारा पिटाई कर हत्या की जा चुकी है। गत वर्ष झारखंड में 2017 के एक मामले में गोमांस का कारोबार करने के आरोप में एक मुस्लिम शख्स की पीट-पीटकर हत्या मामले में रामगढ़ के फास्ट ट्रैक कोर्ट ने बीजेपी नेता सहित सभी 11 दोषियों को उम्रकैद की सजा सुनाई थी।

मुख्य आरोपी गिरफ्तार

खरसावां जिले के एसएसपी कार्तिक ने ‘जनता का रिपोर्टर’ से बातचीत में कहा, “वह (तबरेज अंसारी) चोरी करता था और गांव वालों द्वारा 18 जून को उसे पकड़ा गया था। कल उसकी अचानक तबीयत बिगड़ गई, जिसके उसे अस्पताल लेकर जाया गया, लेकिन इलाज के दौरान उसकी मौत हो गई। मौत के बाद उनके परिजनों द्वारा एक वीडियो प्रस्तुत किया गया उसमें उन लोगों का कहना है कि गांव के लोगों द्वारा उसको पीटा गया जिस वजह से उसकी मौत हुई है।”

एसएसपी ने आगे कहा, “परिजनों की शिकायत पर हमने केस दर्ज कर मुख्य आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है और आरोपी को जेल भेज दिया गया है। कुछ मीडिया रिपोर्ट्स में पिटाई के दौरान जो धार्मिक नारे की बात कही जा रही है वह पूरी तरह से गलत है। कुछ लोग इस मामले को धार्मिक रंग देने की कोशिश कर रहे हैं। परिजनों द्वारा पुलिस को दी गई शिकायत में भी कहीं भी धार्मिक नारे की बात नहीं कही गई है।”

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here