योगी सरकार के शुरुआती दो महीनों में हुई बलात्कार की 803, हत्या की 729 और अपहरण की 2682 घटनाएं

0

योगी आदित्यनाथ के उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री के रूप में गत महीने 26 जून को 100 दिन पूरे हो गए। बीजेपी सरकार ने 19 मार्च 2017 को कामकाज संभाला था। बीजेपी और उसके सहयोगी दलों ने 403 सदस्यीय विधानसभा में 325 सीटों पर विजय हासिल की थी। सरकार के इन 100 दिनों के कार्यकाल में सीएम योगी आदित्यनाथ ने कई महत्वपूर्ण फैसले लिए हैं।

(Reuters File Photo)

हालांकि, जब से योगी आदित्यनाथ मुख्यमंत्री बने हैं, उनके लिए सबसे बड़ी चुनौती राज्य में बिगड़े कानून-व्यवस्था को दुरुस्त करना है। क्योंकि योगी सरकार बनने के बाद भी पिछली सरकारों की तरह आए दिन रेप-बलात्कार, लूट, हत्या, डकैटी और नेताओं की गुंडागर्दी की खबरें लगातार सामने आ रही है।

इस बीच सरकार की तरफ से एक ऐसा आंकड़ा सामने आया है कि जिसे पढ़ने के बाद यह साफ हो गया है कि बिगड़े कानून-व्यवस्था पर रोकथाम लगाने में योगी सरकार पूरी तरफ विफल रही है। दरअसल, योगी सरकार ने मंगलवार(18 जुलाई) को विधानसभा में बताया कि उसके गठन के शुरुआती करीब दो महीनों में राज्य में बलात्कार की 803 तथा हत्या की 729 घटनाएं हुई।

जी हां, संसदीय कार्य मंत्री सुरेश खन्ना ने प्रश्नकाल के दौरान सदन में कहा कि इस साल 15 मार्च से नौ मई के बीच प्रदेश में हत्या की 729, बलात्कार की 803, लूट की 799, अपहरण की 2682 तथा डकैती की 60 वारदात हुई।
सपा सदस्य शैलेंद्र यादव ललई ने यह मुद्दा उठाते हुए सरकार से एक निश्चित अवधि के दौरान हुई आपराधिक वारदात और उन्हें रोकने के लिये उठाए गये कदमों के बारे में जानना चाहा था।

मंत्री ने कहा कि हत्या के 67.16 प्रतिशत मामलों में कार्रवाई की गयी है, वहीं बलात्कार के मामलों में यह आंकड़ा 71.12 फीसद, अपहरण के मामलों में 52.23 प्रतिशत, डकैती के मामलों में 67.05 फीसद तथा लूट के मामलों में 81.88 प्रतिशत है।

उन्होंने कहा कि इसके अलावा इन मामलों में से तीन के अभियुक्तों के खिलाफ राष्ट्रीय सुरक्षा कानून की तामील की गई है। जबकि, गैंगस्टर एक्ट के मामलों में 126 तथा गुंडा एक्ट के मामलों में 131 लोगों के खिलाफ कार्रवाई की गई है। सपा सदस्य पारसनाथ यादव ने इसी अवधि में पिछले वर्षों के दौरान अपराध के तुलनात्मक आंकड़ें बताने को कहा, लेकिन मंत्री के पास वे आंकड़े तत्काल उपलब्ध नहीं थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here