रामदेव को दी गई 200 एकड़ जमीन मुख्यमंत्रीे देवेंद्र फडणवीस के लिए बन सकती है गले की हड्डी

0

पतंजली के प्रमुख रामदेव ने फरवरी 2006 में 200 एकड़ जमीन के सौदे में महाराष्ट्र सरकार के साथ अपने समझौते का उल्लंघन किया है। पतंजलि ने 19 फरवरी 2016 को राज्य सरकार के मालवाहक क्षेत्र मिहान में 200 एकड़ भूमि अधिग्रहण की थी।

रामदेव

जिसमें आयुर्वेदिक उत्पादों को बनाने के लिए महाराष्ट्र सरकार के साथ एक समझौते पर हस्ताक्षर किए थे। कंपनी ने 10 सितंबर, 2016 को भारी धूमधाम के बीच भूमिपुजन (धार्मिक अनुष्ठान) का प्रदर्शन किया था, लेकिन साइट पर उत्पादन अभी तक शुरू नहीं हुआ है। समझौते के मुताबिक तय समय सीमा में रामदेव को इस जमीन पर अपना काम शुरू कर देना था लेकिन वो समय सीमा निकल चुकी है। इस प्रकार से रामदेव ने समझौते का उल्लंघन किया है, जिससे मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस के सामने मुश्किलें खड़ी हो सकती है।

इस मुद्दे पर कई लोगों के अनुसार यह समझौते के प्रत्यक्ष उल्लंघन का मामला है। ‘जनता का रिपोर्टर’ से बात करते हुए, वरिष्ठ कांग्रेस नेता और पूर्व संसद सदस्य संजय निरुपम ने कहा कि रामदेव को केवल अंदाजे की मामूली कीमत पर सैकड़ों एकड़ जमीन देना एक भारी भ्रष्टाचार का हिस्सा था, जिसमें राज्य के मुख्यमंत्री भी देवेंद्र फडणवीस भी व्यक्तिगत रूप से शामिल हैं।

उन्होंने कहा, इसमें कोई रहस्य नहीं है कि सरकार ने देश के ऊपर और नीचे हजारों एकड़ जमीन मामूली और अस्थिर कीमतों पर रामदेव को दे दी है, जिन्होंने 2014 के लोकसभा चुनावों में सक्रिय रूप से भाजपा के लिए प्रचार किया था। महाराष्ट्र में भाजपा सरकार ने भी रामदेव को सैकड़ों एकड़ जमीन दे दी है, मुख्य रूप से चुनाव में भगवा पार्टी को उनकी मदद के लिए क्षतिपूर्ति के लिए।

रामदेव समझौते का उल्लंघन कर रहे हैं और उनके चेक भी बाउंस हो गए हैं। इसलिए, यह स्पष्ट हो जाता है कि पतंजलि का महाराष्ट्र सरकार के साथ समझौते की शर्तो का अब प्रभावी ढंग उल्लंघन किया गया हैं। मिहन की जमीन महाराष्ट्र एयरपोर्ट डेवलपमेंट अथॉरिटी के स्वामित्व वाली है, जिसके प्रमुख खुद महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री फडनवीस थे। इसलिए, उनके कहने पर कि MCD ने रामदेव की कंपनी को सस्ते कीमतों पर 200 एकड़ जमीन दी थी।

बंबई उच्च न्यायालय वर्तमान में फडणवीस सरकार पर लगे भ्रष्टाचार और घोर पूंजीवादी होने के आरोपों के मामले पर संजय निरुपम की याचिका पर सुनवाई कर रहा है। इस साल मई में बॉम्बे हाईकोर्ट ने महाराष्ट्र सरकार से जानकारी मांगी थी कि अगर रामदेव के पतंजली आयुर्वेद को 600 एकड़ जमीन नागपुर में दे दी गई तो उसे मामूली कीमतों पर क्यूं आवंटित किया गया था।

पतंजलि को मिहन में प्रति एकड़ में 200 एकड़ जमीन 25 लाख रुपये प्रति एकड़ के तौर पर प्रदान की गई थी, भले ही एक ही हिस्से के लिए बाजार मूल्य 60 लाख प्रति एकड़ रहा था लेकिन नुकसान की वसूली के लिए, फडनवीस सरकार ने नए ग्राहकों के लिए दर बढ़ा दी, जो मिहान में पर्यावरण की रक्षा के लिए पौधों को स्थापित करना चाहते थे। इतनी कम कीमत में इतनी बड़ी जमीन का सौदा करने के कारण राज्य सरकार का भारी नुकसान उठाना पड़ा जिसकी भरपाई के लिए कीमतें बढ़ानी पड़ी।

लेकिन 70 लाख रुपये प्रति एकड़ की नई दर हो जाने की वजह से इस इसके लिए बहुत लोग नहीं आ सके। पहले दो वर्षों में मिहन परियोजना में लगभग 20 कंपनियों ने निवेश किया था। हालांकि, अगले एक साल में केवल पांच कंपनियों को ही इस योजना ने आकर्षित किया गया है, जो बहुत छोटी संख्या थी।

निरुपम ने कहा कि नागपुर के रहने वाले फडणवीस को मिहान परियोजना के माध्यम से इस क्षेत्र को विकसित करने के लिए अद्भुत अवसर था, जिसे उन्होंनें गंवा दिया क्योंकि यह उनके लिए अपने गृह नगर में स्थित था।

निरुपम ने कहा दुर्भाग्य से, मिहान परियोजना घोर पूंजीवाद का शिकार हो गई है। उन्होंने विदर्भ क्षेत्र को विकसित करने का एक बड़ा मौका गंवा दिया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here