पुलिस का दावा- केन्याई लड़की ने बोला झूठ, नहीं हुआ नस्ली हमला

0

नोएडा पुलिस ने गुरुवार(30 मार्च) को दावा किया कि एक केन्याई महिला द्वारा दर्ज कराई गई शिकायत झूठी पाई गई है, जिसने आरोप लगाया था कि ग्रेटर नोएडा में उसे एक कैब (टैक्सी) से खींच कर बाहर निकाला गया और उस पर हमला किया गया।

फोटो: NDTV

नोएडा के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक (एसएसपी) धर्मेंद्र यादव ने संवाददाता सम्मेलन में कहा कि केन्याई नागरिक पर हमला नहीं हुआ था और इस बारे में दर्ज कराई गई रिपोर्ट झूठी थी। पुलिस अधिकारियों ने कैब चालक पिंटू को उनके बयान की पुष्टि के लिए पेश किया। इसी कैब में महिल ने यात्रा की थी।

कैब चालक ने बताया कि उसने केन्याई नागरिक को ग्रेटर नोएडा के ओमीक्रोन सेक्टर में छोड़ा था और ऐसा कोई हमला नहीं देखा था। एसएसपी ने दावा किया कि महिला के बयान की पुष्टि के लिए चोट का कोई निशान नहीं है।

वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने बताया कि कथित हमले के स्थान से कुछ ही दूरी पर एक पुलिस नियंत्रण कक्ष (पीसीआर) वाहन भी खड़ा था। फिर भी किसी ने हमला होते नहीं देखा। एसएसपी ने कहा कि महिला ने एक पुलिस चौकी प्रभारी को फोन किया था और हमले के बारे में शिकायत की थी। प्रभारी का नंबर उसने सुबह लिया था।

यादव ने कहा कि केन्याई नागरिक को फिर कैलाश अस्पताल ले जाया गया था जहां से जल्द ही उसे छुट्टी दे दी गई थी। उन्होंने दावा किया कि महिला को कुछ नाइजीरियाई दोस्तों ने थप्पड़ मारा था ना कि स्थानीय युवकों ने पीटा था।

केन्याई दूतावास के एक अधिकारी ने भी कहा कि महिला पारिवारिक समस्या के चलते तनाव में थी और हमले की झूठी कहानी गढ़ी। अफ्रीकी छात्र कल्याण संघ अध्यक्ष चार्ल्स ने बताया कि केन्याई नागरिक ने एक झूठा बयान दिया था। यह साबित हो गया है। पुलिस हमें सुरक्षा मुहैया कर रही है।

गौरतलब है कि केन्याई महिला ने अपनी शिकायत में कहा था कि वह एक ओला कैब में सफर कर रही थी तभी अज्ञात लोगों ने उसका वाहन रोक लिया, उसे खींच कर बाहर निकाला और उसे पीटा।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here