अब भारत भी हो जाए ज़ीका वायरस से सावधान, वैज्ञानिकों ने जारी किया अलर्ट

0

वैज्ञानिकों ने चेतावनी जारी करते हुए कहा है कि अकेले भारत में 1.2 अरब की आबादी जीका वायरस के खतरे वाले इलाके में रह रही है। उन्होंने कहा है कि जीका वायरस अफ्रीका, एशिया और प्रशांत के क्षेत्रों में नए सिरे से अपने पैर जमा सकता है, जहां दुनिया की एक तिहाई से ज्यादा आबादी यानी कम से कम 2.6 अरब लोग रहते हैं।

Also Read:  पेशाब करने से रोकने पर ई-रिक्शा चालक की हत्या पर बोले नायडू- गुनहगारों को बख्शा नहीं जाएगा

वैज्ञानिकों ने आगाह किया है कि ये लोग विश्व के उन हिस्सों में रहे हैं, जो फिलहाल अप्रभावित हैं और जहां मच्छर प्रचुर संख्या में हैं और वहां का मौसम जीका के पनपने, फैलने के लिहाज से उपयुक्त है। इस कारण अमेरिकी उपमहाद्वीपों और कैरिबियाई क्षेत्र की तरह वहां भी यह महामारी का रूप अपना सकता है।

Also Read:  शत्रुघ्न सिन्हा बोले- 'यशवंत सिन्हा एक सच्चे नेता हैं, उन्होंने सरकार को आईना दिखाया है'
Congress advt 2

अध्ययन में कहा गया है आकलन के हिसाब से, ज़ीका वायरस के भौगोलिक दायरे के अंदर रहने वाले लोगों की सबसे ज्यादा आबादी भारत :1.2 अरब:, चीन :24.2 करोड़:, इंडोनेशिया :19.7 करोड़: नाइजीरिया :17.9 करोड़: पाकिस्तान :16.8 करोड़: और बांग्लादेश :16.3 करोड़: में है।

Also Read:  सिंगापुर में पहली गर्भवती महिला को हुआ ज़ीका वायरस, संक्रमण के मामलों की संख्या 115 तक पहुंची

मच्छर जनित संक्रमण इनमें से किसी देश में आएगा या नहीं यह एक बेहद अहम कारक से तय होगा। यह कारक है कि क्या लोगों में रोगप्रतिरोधक क्षमता है? अफ्रीका और एशिया में जीका के छुटपुट मामले सामने आए थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here