येस बैंक पर पाबंदियों से फोनपे सबसे ज्यादा प्रभावित, कंपनी के CEO ने ट्वीट कर जताया खेद

0

भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) ने गुरूवार को नकदी संकट से जूझ रहे निजी क्षेत्र के येस बैंक (Yes Bank) पर रोक लगाते हुए उसके निदेशक मंडल को भंग कर दिया है। इसके साथ ही रिजर्व बैंक ने अगले आदेश तक ग्राहकों के लिए निकासी की सीमा 50,000 रुपये तय की है। येस बैंक की कई सेवाओं पर RBI द्वारा लगाए गए रोक के बाद फाइनेंशियल टेक्नोलॉजी कंपनी फोनपे (PhonePe) को मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा है।

बता दें कि, येस बैंक पर लगी रोक के बाद डिजिटल भुगतान सेवाओं का प्रमुख प्लेटफार्म यूनिफाइड पेमेंट्स इंटरफेस (UPI) आधारित लेन-देन रुक गया है और इससे बैंक के सबसे बड़े भुगतान भागीदार फोनपे सबसे बुरी तरह प्रभावित हुआ है। ये यस बैंक का सबसे बड़ा पेमेंट पार्टनर है।

फोनपे के सीईओ समीर निगम ने ट्विटर पर ग्राहकों को बताया कि हमें इस लंबे रुकावट के लिए खेद है। हमारे साझेदार बैंक (येस बैंक) पर RBI द्वारा कई प्रतिबंध लगा दिए गए हैं। उन्होंने कहा कि हमारी पूरी टीम ने रात भर सेवायें जारी रखने के लिए काम किया है। हमें उम्मीद है कि यह कुछ घंटों में ठीक हो जाएगा। आपके धैर्य के लिए धन्यवाद। अपडेट के लिए बने रहें!

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, येस बैंक की आर्थिक हालत ठीक नहीं है। बैंक पर लगातार कर्ज बढ़ता जा रहा है, जिसके चलते निवेशकों को भी 90 फीसदी से अधिक का नुकसान हुआ है।

बता दें कि, भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) ने येस बैंक के जमाकर्ताओं के लिए 50,000 रुपये की निकासी की सीमा तय की है। बैंक पर 30 दिन की अस्थायी रोक लगाते हुए इस दौरान खाताधारकों के लिए निकासी की सीमा 50 हजार रुपये तय कर दी है। इस पूरी अवधि में खाताधारक 50 हजार रुपये से अधिक नहीं निकाल सकेंगे। यदि किसी खाताधारक के इस बैंक में एक से अधिक खाते हैं तब भी वह कुल मिलाकर 50 हजार रुपये ही निकाल सकेगा। RBI की अधिसूचना के मुताबिक, यह 5 मार्च की शाम छह बजे से 3 अप्रैल तक जारी रहेगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here