गुजरात दंगों की जांच करने वाले वाईसी मोदी बनें NIA के नए महानिदेशक

0

वर्ष 2002 के गुजरात दंगों की जांच करने के लिए सुप्रीम कोर्ट द्वारा नियुक्त स्पेशल इंवेस्टिगेशन टीम (SIT) के सदस्य रहे वरिष्ठ आईपीएस अधिकारी योगेश चंद्र मोदी (वाईसी मोदी) ने सोमवार (30 अक्टूबर) को राष्ट्रीय जांच एजेंसी (NIA) के नए महानिदेशक का पदभार ग्रहण कर लिया।

Photo: ANI

असम-मेघालय कैडर के 1984 बैच के आईपीएस अधिकारी वाईसी मोदी ने शरद कुमार का स्थान लिया है, जिनके कार्यकाल में एजेंसी ने बोधगया मंदिर धमाका, पठानकोट वायु सैनिक अड्डे पर हमला, आईएसआईएस लिंक और जम्मू कश्मीर आतंक के लिए धन मुहैया कराने जैसे बडे़ बड़े मामलों की जांच की है।

दरअसल, सुप्रीम कोर्ट ने गुजरात दंगों की जांच के लिए एक विशेष जांच दल का गठन किया था। आईपीएस वाई सी मोदी ने इस जांच दल के सदस्य के रूप में गुजरात दंगों की जांच की थी। आईपीएस वाईसी मोदी को इस पद पर साल 2021 तक के लिए नियुक्त किया गया है।

एनआईए की ओर से जारी विज्ञप्ति के अनुसार, ‘‘यूनाइटेड नेशनल लिबरेशन फ्रंट, दिलसुखनगर (हैदराबाद) धमाका मामला, आईएसआईएस षडयंत्र मामला और जाली भारतीय करेंसी नोट (एफआईसीएन) जैसे अनेक महत्पूर्ण मामले दोषसिद्धि तक पहुंचे।’’ वाईसी मोदी 22 सितंबर को एनआईए में विशेष ड्यूटी अधिकारी के तौर पर शामिल हुए थे।

उन्होंने 2002-2010 तक और फिर 2015-2017 तक 10 वर्ष तक सीबीआई के लिए काम किया जहां उन्होंने भ्रष्टाचार के खिलाफ मामलों के साथ ही विशेष अपराध एंव आर्थिक अपराध के मामले देखे। वाईसी मोदी ने 1991 और 2002 के बीच कैबिनेट सेक्टेरिएट में भी काम किया। प्रोन्नति पर एनआईए में भर्ती होने से पहले मोदी नयी दिल्ली में सीबीआई में अतिरिक्त निदेशक के पद पर सेवाएं दे रहे थे।

बयान में कहा गया कि उन्हें 2001 में पुलिस मेडल फॉर मेरिटोरियस सर्विस और 2008 में राष्ट्रपति का पुलिस पदक प्रदान किया गया था। आपको बता दें कि वरिष्ठ आईपीएस अधिकारी वाईसी मोदी सुप्रीम कोर्ट की बनाई गई विशेष जांच कमेटी (एसआईटी) का हिस्सा थे, जिन्होंने 2002 के गुजरात दंगों की जांच की थी। 2015 में उन्हें सीबीआई का अतिरिक्त निदेशक भी नियुक्त किया गया था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here