‘द टेलीग्राफ’ ने PM मोदी को किया ट्रोल, BJP द्वारा देश की हर दुर्दशा के लिए नेहरु को दोषी ठहराने पर अखबार का व्यंगात्मक फ्रंट पेज वायरल, यूजर्स बोले- “वाह ‘टेलीग्राफ’ वाह…”

0

कोलकाता स्थित अंग्रेजी दैनिक अखबार ‘द टेलीग्राफ’ अपने फ्रंट पेज को लेकर हर दिन सुर्खियों में बना रहता है। शुक्रवार (15 मार्च) को एक बार फिर द टेलीग्राफ का फ्रंट पेज सोशल मीडिया पर वायरल हो गया है। टेलीग्राफ ने शुक्रवार को केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार पर तंज कसते हुए अपने फ्रंट पेज की सुर्खियों के साथ अविश्वसनीय रूप से चर्चा में आ गया है और सोशल मीडिया पर अखबार के संपादकीय टीम की जमकर तारीफ हो रही है।

24 मई 1964 को दुनिया को अलविदा कह चुके प्रथम प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू को ही आज भी देश की हर दुर्दशा के लिए केंद्र में सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) द्वारा जिम्मेदार ठहराने पर टेलीग्राफ ने नेहरू को वांटेड बताते हुए अपना व्यंगात्मक फ्रंट पेज प्रकाशित किया है। मौत के 55 साल बाद भी देश की हर बुरे हालात के लिए नेहरू पर आरोप लगाने को लेकर अखबार ने प्रधानमंत्री मोदी पर तंज कसा है।

अखबार ने फ्रंट पेज पर वांटेड का एक दिलचस्प पोस्टर बनाकर लगाया है। इसमें जवाहर लाल नेहरू उर्फ असली पापी लिखा है और यह भी कि अंतिम बार 27 मई 1964 को देखे गए थे। उनपर मौजूदा मोदी सरकार के आरोप तो बताए ही गए हैं साथ ही यह भी लिखा है कि उनके पास न जाएं- खतरनाक और हथियारों से लैस हैं। खतरनाक हथियारों में उनकी किताबों के नाम लिखे हैं।

दरअसल, आतंकवादी संगठन जैश-ए-मोहम्मद का सरगना आतंकी मसूद अजहर को चीन ने एक बार फिर वैश्विक आतंकी घोषित होने से बचा लिया है। मसूद अजहर को वैश्‍विक आतंकी घोषित करने को लेकर चीन के वीटो पर कांग्रेस के विरोध पर बीजेपी ने कहा था कि यह सब पहले प्रधानमंत्री पंडित जवाहरलाल नेहरू की नीतियों का नतीजा है। बीजेपी ने आरोप लगाया कि उन्‍होंने ही चीन को संयुक्‍त राष्‍ट्र सुरक्षा परिषद की स्‍थायी सदस्‍यता का समर्थन किया था।

केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने गुरुवार को अपनी प्रेस कॉन्फेंस में एक अखबार की एक रिपोर्ट की कॉपी दिखाते हुए कहा कि भारत के पहले प्रधानमंत्री नेहरू ने संयुक्त राष्ट्र में सुरक्षा परिषद की सीट लेने से इनकार कर दिया था और इसे चीन को दिलवा दिया था। वहीं, कांग्रेस पर निशाना साधते हुए वित्त मंत्री अरुण जेटली ने भी गुरुवार को कहा कि प्रथम प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू मूल रूप से दोषी हैं, जिन्होंने संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की स्थायी सदस्यता के लिए भारत की बजाय चीन का पक्ष लिया था।

केंद्र की सत्ता में पांच साल पूरा करने जा रही मोदी सरकार द्वारा अभी भी हर बात के लिए प्रथम प्रधानमंत्री को दोषी ठहराए जाने पर अखबार का यह व्यंगात्मक पोस्टर ट्विटर पर वायरल हो गया है। टेलीग्राफ ने बीजेपी पर तंज कसते हुए लिखा है कि चीन, मसूद अजहर, अयोध्या में राम मंदिर, हर साल 2 करोड़ नौकरियां सहित देश की हर समस्याओं के लिए नेहरू ही जिम्मेदार हैं। लोग इसकी अखबार की संपादकीय पेज की जमकर सराहना कर रहे हैं।

देखिए, लोगों की प्रतिक्रियाएं:

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here