AMU के बहाने तेजस्वी यादव ने PM मोदी और CM योगी पर बोला हमला, बोले- दोनों के शासनकाल में निराशाजनक विफलताओं को छिपाने के लिए ‘कवर’ मात्र है जिन्ना विवाद

0

उत्तर प्रदेश के अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय (एएमयू) में पाकिस्तान के संस्थापक मोहम्मद अली जिन्ना की तस्वीर को लेकर जारी घमासान बढ़ता ही जा रहा है। इस विवाद में एक के बाद एक राजनीतिक दल के नेता कूदते नजर आ रहे हैं। इस बार बिहार के पूर्व उपमुख्यमंत्री और राज्य में विपक्ष के नेता तेजस्वी यादव भी इस विवाद में खुलकर सामने आ गए हैं।

तेजस्वी यादव ने कहा है कि वह अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी के साथ हैं। साथ ही उन्होंने इस विवाद के बहाने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ पर भी निशाना साधा है। जिन्ना की तस्वीर को लेकर जारी विवाद पर तेजस्वी यादव ने ट्वीट कर लिखा है, ‘जिन्ना की फोटो पर विवाद मोदी जी और योगीजी के शासन काल में निराशाजनक विफलता को छिपाने के लिए एक कवर मात्र है। प्रिय एएमयू! धर्मनिरपेक्षता और समाजवाद के आदर्शों की रक्षा के लिए हम आपके साथ एकजुट हैं। जय हिन्द।’

बता दें कि एएमयू कैंपस के बाब-ए-सैयद गेट पर कई दिनों से छात्रों का विरोध प्रदर्शन जारी है। छात्रों ने मांग की है कि दो मई को उपद्रव करने वाले हिन्दू संगठनों के नेताओं और बीजेपी सांसद सतीश गौतम की गिरफ्तारी होनी चाहिए, तभी उनका प्रदर्शन खत्म होगा। बता दें कि विवाद तब शुरू हुआ जब अलीगढ़ से सांसद सतीश गौतम ने एएमयू के छात्र संघ कार्यालय की दीवारों पर पाकिस्तान के संस्थापक की तस्वीर लगी होने पर आपत्ति जताई।

दरअसल, एएमयू के यूनियन हॉल में जिन्ना की तस्वीर लगाने से नाराज हिंदू युवा वाहिनी के कुछ कार्यकर्ताओं ने दो मई को परिसर में घुसकर नारेबाजी की थी। उन पर मारपीट और भड़काऊ नारेबाजी करने के आरोप हैं। एएमयू छात्रसंघ ने हिंदू युवा वाहिनी के प्रदर्शनकारियों की गिरफ्तारी की मांग की थी। इस मांग के समर्थन में परिसर के गेट पर एकत्र हुए एएमयू छात्रों की भीड़ को तितर-बितर करने के लिए पुलिस द्वारा किए गए बलप्रयोग में एएमयू छात्रसंघ के अध्यक्ष मशकूर अहमद उस्मानी और छात्र संघ के पूर्व उपाध्यक्ष एम. हुसैन जैदी समेत छह लोग घायल हो गए थे।

3 मई से छात्रों का प्रदर्शन जारी

इस घटना के बाद एएमयू के छात्रों ने तीन मई से अनिश्चितकालीन धरना शुरू कर दिया, जो आज भी जारी है। एएमयू के बाब-ए-सैयद गेट के पास अनिश्चितकालीन धरना प्रदर्शन कर रहे छात्रों ने वहीं पर जुमे की नमाज अदा की। जमात में विश्वविद्यालय के शिक्षकों तथा एएमयू से ताल्लुक रखने वाले अन्य कई लोग भी शरीक हुए। एएमयू टीचर्स एसोसिएशन ने राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद को पत्र लिखकर उनसे विश्वविद्यालय परिसर में बुधवार को हिंदू युवा वाहिनी के कार्यकर्ताओं द्वारा अराजकता फैलाए जाने के घटनाक्रम की फौरन उच्चस्तरीय जांच कराने की गुजारिश की है।

एसोसिएशन के सचिव प्रोफेसर नजमुल हसन ने बताया कि संगठन ने राष्ट्रपति से गुहार लगाई है कि वह इस मामले को गंभीरता से लें, क्योंकि यह पूर्व उपराष्ट्रपति हामिद अंसारी की सुरक्षा से जुड़ा मामला है। उन्होंने आरोप लगाते हुए कहा कि दो मई को पुलिस हिंदू युवा वाहिनी के गुंडों को रोकने के बजाय तमाशबीन बनी रही। जिन्ना की तस्वीर विवाद पर विश्वविद्यालय के कुलपति का कहना है कि यह तस्वीर स्टूडेंट यूनियन के हॉल में लगी है और यह कोई नई बात नहीं है। उनका कहना है कि यह तस्वीर 1938 से ही लगी है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here