कांग्रेस ने इस साल इफ्तार पार्टी ना करने का फैसला किया, आरएसएस की इफ्तार पार्टी को शिवसेना ने बताया पाखण्ड

0

कांग्रेस पार्टी ने गुरूवार को इस साल इफ्तार पार्टी ना करने का एलान करते हुए कहा कि पार्टी इस पैसे को किसानों और ग़रीबों की मदद में लगाएगी।

दूसरी ओऱ इफ्तार की राजनीति ने शिवसेना और राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ को एक दुसरे के सामने खड़ा कर दिया है।

आरएसएस द्वारा इफ्तार पार्टी के एलान पर कड़ी आपत्ति जताते हुए शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने इसे पाखण्ड बताया।

जनसत्ता में छपी एक खबर के अनुसार केंद्र और महाराष्ट्र में भाजपा की सहयोगी पार्टी शिवसेना ने इफ्तार पार्टी को पार्टी का ‘पाखंड’ बताया है। बता दें, आरएसएस के संगठन मुस्लिम राष्ट्रीय मंच ने दो जुलाई को इफ्तार पार्टी रखी है। शिवसेना की नेता मनीषा ने एएनआई से कहा, ‘यह हैरान करने वाली बात है कि इस तरह की इफ्तार पार्टी आरएसएस आयोजित कर रहा है। लेकिन हैरानी भी नहीं हैं क्योंकि आरएसएस और भाजपा हिंदुत्व एजेंडे पर पकड़ खो रहे हैं।’

साथ ही साथ ठाकरे ने ये भी कहा कि  ‘राम मंदिर का मुद्दा देख लीजिए जिसकी वजह से पार्टी दो सांसदों से 181 सांसदों तक पहुंची है। पार्टी उससे भी हटती नजर आ रही है। वे इफ्तार पार्टी को सांस्कृतिक कार्यक्रम बता रहे हैं। यह पार्टी का पाखंड है।’

मुस्लिम राष्ट्रीय मंच ने करीब 140 देशों के राजयनिकों को इफ्तार पार्टी का न्योता दिया है। मंच ने इंटरनेशनल रोजा इफ्तार पार्टी दो जुलाई को आयोजित की गई है। आरएसएस सरसंघसंचालक मोहन भागवत मुसलमानों के खिलाफ भाषण देते हुए।