मुश्किल में बॉलीवुड के ‘बादशाह’, आयकर विभाग ने सील किया शाहरुख खान का फार्महाउस

0

बॉलीवुड के किंग और बादशाह कहे जाने वाले मशहूर अभिनेता शाहरुख खान को आयकर विभाग की ओर से बड़ा झटका लगा है। आयकर विभाग ने शाहरुख खान का अलीबाग वाला बंगला (फार्महाउस) अस्थाई रूप से कुर्क कर लिया है। आयकर विभाग ने उनका फार्महाउस सील करने के साथ साथ ही नोट‍िस भी जारी क‍िया है। शाहरुख खान को 90 दिन में इस नोटिस का जवाब देना होगा।

Photo: Mid-day

आयकर विभाग ने शाहरुख के फार्महाउस को बेनामी संपत्ति बताते हुए न्यायिक प्राधिकरण को एक रिपोर्ट जमा की है और उन्हें कुर्की की पुष्टि करने को कहा है। रिपोर्ट के मुताबिक शाहरुख ने इस बंगले को बनवाने के लिए कथित तौर पर नियमों का उल्लंघन करते हुए कागजात के साथ फर्जीवाड़ा किया है।

अंग्रेजी अखबार टाइम्स ऑफ इंडिया में छपी खबर के अनुसार, शाहरुख खान को 90 दिनों के भीतर प्राधिकरण के समक्ष अपना जवाब दाखिल करना होगा। एक बार न्यायिक प्राधिकरण ने कुर्की की पुष्टि कर दी तो आयकर विभाग प्रशासन उनके खिलाफ आपराधिक कार्रवाई भी शुरू कर सकता है। पिछले महीने बेनामी संपत्ति कानून के तहत ‘देजा वू फार्म्स’ को नोटिस जारी किया गया था।

वहीं, रजिस्ट्रार ऑफ कंपनीज की वेबसाइट के अनुसार ‘देजा वू फार्म्स’ ने 2004 में कृषि क्षेत्र में काम करना बंद कर दिया था। कृषि भूमि होने के कारण इसे शुरुआती तीन साल में कृषि के लिए इस्तेमाल किया जाना था। आरोप है कि शाहरुख ने फार्म हाउस को खेती के लिए बताकर खरीदा गया था, जबकि इसके अंदर स्विमिंग पूल और निजी हेलीपैड भी है।

शाहरुख पर आरोप है कि उन्होंने कृषि योग्य जमीन पर फार्महाउस बना लिया। महाराष्ट्र के कानून के तहत ऐसा नहीं किया जा सकता है। शाहरुख का यह फार्महाउस अलीबाग में 19,960 वर्ग मीटर में फैला है, जिसकी कीमत 14.67 करोड़ रुपये बताई जा रही है। इस फार्महाउस में एक स्वीमिंग पूल, बीच और प्राइवेट हेलिपैड होने के साथ ही ये पूरे 19,960 वर्गफीट में फैला हुआ है।

रिपार्ट के अनुसार, शाहरुख ने खेती के लिए जमीन खरीदने के लिए आवेदन किया था, लेकिन बाद में निजी इस्तेमाल के लिए अलीबाग में एक फार्महाउस बना लिया। जांच रिपोर्ट के अनुसार, ‘यह लेनदेन पीबीपीटी अधिनियम की धारा 2(9) के अनुसार बेनामी लेनदेन की परिभाषा के अंतर्गत आता है, जहां शाहरुख के फायदे के लिए देजा वू फार्म्स ने बेनामिदार के रूप में काम किया है। इस प्रकार शाहरुख निर्धारित कानून के तहत एक लाभार्थी है।’

रिपोर्ट के मुताबिक, शाहरुख ने दक्षिण मुंबई में समुद्र तट के किनारे खेती की जमीन खरीदने के लिए पहले एक कंपनी बनाई। अब शाहरुख पर आरोप है कि जो कंपनी उन्होंने बनाई थी उसे खुद 8.45 करोड़ रुपये का लोन भी दिया। अभिनेता पर कंस्ट्रक्शन के दौरान तटीय इलाकों के नियमों की अनदेखी का भी आरोप है। अब इस मामले में शाहरुख को मुसीबत का सामना करना पड़ सकता है।

 

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here