एक मां की वेदना- मेरा बेटा तो बस कंडक्टर को जानता भी नहीं था, क्या कंडक्टर को बलि का बकरा बनाया गया है?

0

रेयान इंटरनेशनल स्कूल में 7 वर्षीय प्रद्युमन की निर्मम हत्या के बाद स्कूल पर सवालिया निशान उठने शुरू हो गए है। जिस तरह से इस हत्याकांड को अंजाम दिया गया है और फौरन ही पुलिस के सामने आकर बस कंडक्टर ने अपना जुर्म स्वीकार कर सारी कहानी बंया कर दी उसमें झोल नज़र आने लगा है।

अभी तक स्कूल प्रशासन ने इस सारे मामले में चुप्पी साध रखी है और आज स्कूल को छावनी में बदल दिया गया है। भारी पुलिसबल स्कूल में तैनात कर दिया गया है। यहां तक कि मीडिया तक को बाहर से ही रिर्पोटिंग करनी पड़ रही है। जबकि स्कूल पूरी तरह से खाली बताया जा रहा है आज स्कूल में कोई भी नहीं आया है।

पुलिस कहती है इसी ने मासूम प्रद्युम्न का कत्ल किया है। इसका नाम अशोक है। अशोक गुरूग्राम के रेयान स्कूल में पिछले आठ महीने से काम कर रहा है।

करीब दस घंटे की छानबीन और स्कूल स्टाफ से पूछताछ के बाद पुलिस ने स्कूल बस के कंडक्टर को गिरफ्तार किया है।कंडक्टर का नाम अशोक बताया जाता है। पूछताछ के दौरान आरोपी ने बताया कि जब बच्चे ने विरोध किया गया तो उसने बच्चे की हत्या कर दी। उसने बताया कि चाकू बस में था और वो उसके पास था, जब बच्चे ने विरोध किया तो उसने बच्चे को चाकू मार उसकी हत्या कर दी। क्या अशोक चाकू लेकर बच्चे के पीछे टायलेट में गया।

गुरुग्राम पुलिस के मुताबिक आरोपी कंडक्टर ने बच्चे का यौन शोषण करने की कोशिश की थी, नाकाम होने पर उसने बच्चे की गला काटकर हत्या कर दी। पुलिस के मुताबिक, आरोपी कंडक्टर ने अपना गुनाह कबूल कर लिया।

जबकि इस सारे मामले में बच्चे की मां ज्योति ठाकुर का कहना है कि स्कूल प्रशासन ने हमसे सच्चाई छिपाई और कहा कि बच्चा टायलेट में गिर गया है। मेरा बच्चा तो उस कंडक्टर को जानता तक नहीं था। आरोप है कि स्कूल प्रशासन कुछ तथ्य छिपा रहा है। स्कूल के बाहर अन्य अभिभावक भारी संख्या में एकत्र हो चुके है। लेकिन सारे मामले में स्कूल प्रशासन की गैरमौजूदगी कई सारे सवालों को खड़ा कर रही है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here