ऋषि कपूर ने ‘खुल्लम खुल्ला’ कबूला चार घंटे तक हुई थी दाऊद इब्राहिम से उनकी बातचीत

0

अनडरवर्ल्ड डॉन दाऊद इब्राहिम के बॉलीवुड कनेक्शन पर कई तरह की सुर्खियां सामने आती रहती हैं। लेकिन इस बार खुद ऋषि कपूर ने माना कि उन्होंने दाऊद से न सिर्फ मुलाकात की थी, बल्कि उनके बीच घंटों तक लंबी बातचीत भी हुई थी। ऋषि कपूर की बायोग्राफी ‘खुल्लम खुल्ला ऋषि कपूर अनसेंसर्ड’ में कुछ चौकाने वाले राज उजागर हुए हैं।

ऋषि कपूर

हार्पर कॉलिन्स द्वारा प्रकाशित और सीनियर एंटरटेनमेंट जर्नलिस्ट मीना अइयर द्वारा लिखित इस बायोग्राफी के कुछ हिस्से अंग्रेजी वेबसाइट टाइम्स ऑफ इंडिया ने  प्रकाशित किए हैं जिसमें ऋषि कपूर ने बताया कि दाऊद से उनकी मुलाकात 1988 में दुबई में हुई थी।

किताब में बताया गया है कि 1988 में जब ऋषि कपूर आर डी बर्मन और आशा भोंसले के एक कार्यक्रम में शामिल होने दुबई गए थे तभी उनकी मुलाकात दाऊद से हुई थी। दाऊद का एक आदमी हमेशा एयरपोर्ट पर रहता था और जैसे ही ऋषि वहां से निकल रहे थे तभी उनके हाथ में एक अजनबी ने उन्हें फोन दिया और कहा कि दाऊद साब बात करेंगे। उसने मुझसे कहा, ‘दाऊद साब आपके साथ चाय पीना चाहते हैं।

जाहिर है, यह 1993 के मुंबई ब्लास्ट से पहले की घटना थी और उस वक्त मैं दाऊद को भगोड़ा नहीं समझता था। तब तक वह महाराष्ट्र के लोगों का दुश्मन भी नहीं था। या कम से मुझे ऐसा लगता था। इसके बाद शाम को उन्हें लेने के लिए एक रॉल्स रॉयस भेजी गई। दाऊद ने मेरा स्वागत किया और कहा,’किसी भी चीज की जरूरत हो तो बस मुझे बता दें।उसने मुझे अपने घर भी बुलाया। मैं भौंचक्का था।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक ऋषि ने बताया जैसे ही हम दाऊद के घर पहुंचे दाऊद सफेद रंग की शानदार इटैलियन ड्रेस में आया और उन्होंने हमारा शानदार स्वागत किया। दाऊद ने माफी मांगने के अंदाज में कहा कि मैंने आपको चाय के लिए इसलिए बुलाया क्योंकि मैं शराब नहीं पीता। फिर हमारा चाय-बिस्किट सेशन तकरीबन चार घंटे तक चला। इन चार घंटों में दाऊद के साथ मेरी कई मुद्दों पर बात हुई, जिनमें उनकी आपराधिक गतिविधियों के बारे में जिक्र किया गया, जिनके लिये उनके कोई पछतावा नहीं था।

दाऊद ने ऋषि से कहा कि उन्हें उनकी फिल्म ‘तवायफ’ काफी पसंद आई क्योंकि उसमें उनका नाम दाऊद था। दाऊद का कहना था कि फिल्म के जरिए ऋषि ने उनके नाम को महान बना दिया है। किताब में लिखा है, ‘उन्होंने कहा कि वह मेरे पिता, मेरे चाचाओं, दिलीप कुमार, महमूद, मुकरी जैसे अभिनेताओं को बहुत पसंद करते हैं। मुझे याद है वहां जाने से पहले तक मैं थोड़ा डरा हुआ था लेकिन वहां जाने के बाद मैं काफी रिलैक्स हो गया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here