बाबरी मस्जिद विध्वंस के 24 साल बाद गांधी परिवार से राहुल गांधी के अयोध्या में पड़े पांव, हनुमानगढ़ी में की पूजा

0

कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने आज अयोध्या स्थित हनुमानगढ़ी मंदिर में दर्शन किये। वर्ष 1992 में विवादित ढांचा विध्वंस के बाद अयोध्या की यात्रा करने वाले वाले नेहरू-गांधी परिवार के वह पहले सदस्य हैं।

उत्तर प्रदेश में अपनी किसान यात्रा के चौथे दिन राहुल ने हनुमानगढ़ी में दर्शन से पहले महन्त ज्ञानदास से मुलाकात की। ज्ञानदास विश्व हिन्दू परिषद के प्रति विरोधी रख रखने वाले माने जाते हैं।

Also Read:  लालू ने PM मोदी को दी खुली चुनौती, कहा- हिम्मत है तो अभी कराए लोकसभा चुनाव

rajeev-rahul-696x390
राहुल नेहरू-गांधी परिवार के ऐसे पहले सदस्य हैं, जिन्होंने छह दिसम्बर 1992 को बाबरी मस्जिद के विध्वंस के बाद अयोध्या की यात्रा की है। ऐसे में राहुल की हनुमान गढ़ी की यात्रा राजनीतिक लिहाज से भी महत्व रखती है। अयोध्या के विवादित स्थल से लगभग एक किलोमीटर दूर है।

Also Read:  फतेहपुर में राजनाथ सिंह की रैली में लगे ‘नरेंद्र मोदी मुर्दाबाद’ के नारे

भाषा की खबर के अनुसार, राहुल उस शिलान्यास स्थल से भी दूर रहे जहां वर्ष 1989 में राम मंदिर के निर्माण की आधारशिला रखी गयी थी।

इलाके के पुराने बाशिंदे बताते हैं कि करीब 26 साल पहले राहुल के पिता दिवंगत पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी ने वर्ष 1990 में अपनी ‘सद्भावना यात्रा’ के दौरान हनुमानगढ़ी मंदिर जाने का कार्यक्रम बनाया था लेकिन वक्त की कमी की वजह से वह वहां नहीं जा सके थे।

Also Read:  Need for Kisan budget as Modi govt not paying heed to farmers

राजीव गांधी की 21 मई 1991 को हत्या कर दी गयी थी। उस वक्त राहुल 20 साल के थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here