सेबी के जुर्माने को लेकर राहुल गांधी का PM पर निशाना, कहा- ‘बेईमान’ विजय रूपाणी पर चुप क्यों हैं मोदी?

0

गुजरात विधानसभा चुनाव जितना करीब आ रहा है, राज्य में राजनीतिक गहमा-गहमी उतनी ही तेज होती जा रहीं है।राज्य में चुनाव प्रचार के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह और कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी समेत दिग्गज नेता एड़ी-चोटी का जोर लगा रहे हैं। लेकिन सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी(बीजेपी) की मुश्किलें कम होने के नाम नहीं ले रही है।कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने रविवार (12 नवंबर) को कथित हेरफेर वाले शेयर कारोबार के लिए गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रूपाणी की फर्म पर सेबी द्वारा जुर्माना लगाने पर रुपानी पर निशाना साधा। राहुल ने इस मुद्दे पर प्रधानमंत्री की चुप्पी पर सवाल उठाए। गुजरात के अपने चुनावी दौरे पर राहुल ने दावा किया कि शेयर बाजार नियामक संस्था सेबी ने रुपाणी को ‘बेईमान’ कहा और उन पर जुर्माना लगाया।

Also Read:  मसूद अजहर को ग्लोबल आतंकी घोषित करने के प्रस्ताव पर चीन ने एक बार फिर लगाया अड़ंगा

न्यूज एजेंसी भाषा की रिपोर्ट के मुताबिक, राहुल गांधी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मांग की कि वह अपने बेईमान मुख्यमंत्री के बारे में बयान दें। उन्होंने कहा कि गुजरात पूरे देश से ज्यादा भ्रष्ट है। सूरत कारोबारियों ने मुझसे कहा कि पुलिसकर्मी (कथित रुप से रिश्वत मांगने के लिए) हर दो मिनट पर उनकी इकाइयों में आते हैं।

कांग्रेस उपाध्यक्ष रविवार को उत्तरी गुजरात के अपने चुनावी दौरे के दूसरे दिन बनासकांठा जिले में यहां एक जनसभा को संबोधित कर रहे थे। इस दौरान उन्होंने कहा कि, ‘(बीजेपी प्रमुख) अमित शाह के बेटे जय शाह ने 2014 में बीजेपी के सत्ता में आने के बाद कुछ महीनों में अपनी कंपनी का कारोबार 50 हजार रुपये से बढाकर 80 करोड़ रुपये कर लिया। गुजरात की जनता यह जानती है कि बिना भ्रष्टाचार के ऐसा नहीं किया जा सकता।’

Also Read:  VIDEO: PM मोदी के संसदीय क्षेत्र में भगवा गुंडों का आतंक, मुस्लिम युवक की बेरहमी से की पिटाई

राहुल ने कहा कि, ‘कुछ दिन पहले, सेबी ने कहा कि आपके मुख्यमंत्री बेईमान हैं और उन्होंने उन पर जुर्माना लगाया।’ कांग्रेस नेता ने कहा कि ‘मोदी जी कहा करते थे, न खाऊंगा ना खाने दूंगा। कृपया इस मुद्दे पर अब अपना मुंह खोलिए। लेकिन वह चुप हैं, अब उनका नारा है न बोलता हूं, ना बोलने दूंगा।’

राहुल ने तीखे तेवर अपनाते हुए कहा कि, ‘देश की जनता सुनना चाहती है कि आप अमित शाह के बेटे की कंपनी और विजय रुपानी पर क्या कहना चाहते हैं? अगर आपने इस मुद्दे पर कुछ नहीं कहा तो गुजरात की जनता समझेगी कि आप चौकीदार नहीं बल्कि भागीदार हैं।’

Also Read:  टाइपिस्ट ने ही जारी कर दिया कैदी की रिहाई का आदेश, कोर्ट ने कहा टाइपिंग में हुई गलती, कैदी हुआ फरार

गौरतलब है कि सेबी ने जनवरी से जून 2011 तक कंपनी शरण केमिकल्स लिमिटेड के शेयरों में कथित हेरफेर करने के लिए रूपाणी की हिंदू अविभाजित परिवार (एचयूएफ) सहित 22 कंपनियों पर कथित रुप से जुर्माना लगाया था। रुपाणी ने कहा था कि अपीली न्यायाधिकरण ने उनकी फर्म सहित 22 कंपनियों पर लगे 6.91 करोड़ रुपये के जुर्माने को निरस्त किया था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here