रेणुका चौधरी की हंसी पर टिप्पणी कर फंसे PM मोदी, ट्विटर यूजर्स की नाराजगी का करना पड़ा सामना

0

राज्यसभा में बुधवार (7 फरवरी) को कांग्रेस सांसद रेणुका चौधरी की हंसी पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा की गई टिप्पणी पर विवाद हो गया है। प्रधानमंत्री मोदी की रेणुका चौधरी पर की गई टिप्पणी को लेकर गुरुवार (8 फरवरी) को राज्यसभा में कांग्रेस ने जमकर हंगामा किया। कांग्रेस पीएम मोदी से इस बयान पर माफी की मांग कर रही है। हंगामे के बाद सदन की कार्यवाही 12 बजे तक के लिए स्‍थगित करनी पड़ी।

दरअसल, पीएम मोदी ने बुधवार को राज्यसभा में राष्ट्रपति के अभिभाषण पर धन्यवाद प्रस्ताव के दौरान कहा था कि आधार की अवधारणा अटल बिहारी वाजपेयी सरकार के दौरान सामने आई थी, जिस पर रेणुका चौधरी ने काफी जोर से ठहाका लगाया था। राज्यसभा के सभापति वेंकैया नायडू ने प्रधानमंत्री के भाषण के दौरान हंसती हुईं रेणुका को जब डपटते हुए रोकना चाहा।

राज्यसभा अध्यक्ष वेंकैया नायडु ने कहा कि, “आपको क्या हो गया है, अगर आपको समस्या है तो डॉक्टर के पास जाइए।” वेंकैया नायडु रेणुका चौधरी को बीच में टोक ही रहे थे कि मुस्कुराते हुए पीएम मोदी बोले, “सभापति जी रेणुका जी को आप कुछ मत कहिए (चुप होने के लिए मत कहिए)। रामायण सीरियल के बाद ऐसी हंसी सुनने का आज सौभाग्य मिला है।”

राज्यसभा में कांग्रेस सांसद रेणुका चौधरी की हंसी पर PM मोदी द्वारा की गई टिप्पणी पर विवाद।

राज्यसभा में बुधवार को कांग्रेस सांसद रेणुका चौधरी की हंसी पर PM मोदी द्वारा की गई टिप्पणी को लेकर विवाद हो गया है। गुरुवार को राज्यसभा में कांग्रेस ने जमकर हंगामा किया।

Posted by जनता का रिपोर्टर on Thursday, February 8, 2018

पीएम मोदी के इस बयान पर सत्तापक्ष के सदस्यों ने डेस्क थपथपाना शुरू कर दिया। पीएम मोदी के इसी टिप्पणी को लेकर गुरुवार को शून्यकाल शुरू होते ही कांग्रेस सदस्य अपनी सीट से उठे और नारेबाजी शुरू कर दी। राज्यसभा के सभापति एम. वेंकैया नायडू ने नारेबाजी कर रहे सदस्यों से सदन की कार्यवाही बाधित नहीं करने का आग्रह किया, लेकिन कांग्रेस सदस्यों ने विरोध जारी रखा।

किरण रिजिजू ने शूर्पणखा से की तुलना

केंद्र सरकार में केंद्रीय गृह राज्यमंत्री किरण रिजीजू ने फेसबुक पर एक वीडियो शेयर कर रेणुका चौधरी की हंसी की तुलना रामायण के किरदार शूर्पणखा से कर दी है। इससे विवाद ने और तूल पकड़ लिया है। रिजिजू द्वारा शेयर वीडियो में रामायण के उस दृश्य को दिखाया गया है, जिसमें रावण की बहन शूर्पणखा भगवान राम के लिए प्रस्ताव लेकर पंचवटी पहुंचती है।

लक्ष्मण ने उसी वक्त शूर्पणखा का नाक काट डाला था। रिजिजू ने इस वीडियो को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा राज्यसभा में दिए गए भाषण से भी जोड़ दिया है। उन्होंने यह वीडियो बुधवार (7 फरवरी) देर रात को शेयर किया था। नाराज रेणुका चौधरी ने विशेषाधिकार हनन का प्रस्ताव लाने की बात कही है। उन्होंने इसे बेहद आपत्तिजनक करार दिया है।

PM मोदी इस बयान की जमकर हो रही आलोचना

कांग्रेस सांसद रेणुका चौधरी की हंसी पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा की गई इस टिप्पणी की सोशल मीडिया यूजर्स और विपक्षी पार्टियों के नेता जमकर आलोचना कर रहे हैं। कांग्रेस के अधिकारिक अकाउंट से लिखा गया कि, “हम राज्यसभा के सभापति वेंकैया नायडु से अपील करते हैं को वो पक्षपात न करें और संसद के सदस्यों के प्रति सम्मान रखें।”

वहीं, बीबीसी हिंदी के मुताबिक प्रधानमंत्री के बयान पर प्रतिक्रिया देते हुए रेणुका चौधरी ने कहा कि, “वो हमें बता रहे थे कि आधार कार्ड का बीज उस समय बोया गया था जब आडवाणी जी थे, मुझे इस बात पर हंसी आ गई। इतना 360 डिग्री मुकर जाते हैं।”

चौधरी ने कहा कि, “उन्होंने मेरे ऊपर निजी टिप्पणी की है। जो प्रधानमंत्री ने कहा उस पर बाहर कानून लागू हो सकता है। ये महिलाओं की सामाजिक स्थिति की निंदा है।” वहीं राज्यसभा में आम आदमी पार्टी के सांसद संजय सिंह ने प्रधानमंत्री की टिप्पणी की आलोचना की है।

संजय सिंह ने ट्वीट कर कहा कि, “प्रधानमंत्री जी ने रेणुका चौधरी जी की हंसी की तुलना रावण से की, अत्यंत दुर्भाग्यपूर्ण है की देश के सर्वोच्च सदन में हमारे प्रधान सेवक एक महिला पर ऐसी टिप्पणी करते हैं।”

https://twitter.com/WoCharLog/status/961234706812448771?ref_src=twsrc%5Etfw&ref_url=http%3A%2F%2Fwww.bbc.com%2Fhindi%2Fsocial-42985560

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here