16 दिनों की बढ़ोत्तरी के बाद पेट्रोल-डीजल की कीमतों में सिर्फ 1 पैसे की कटौती, यूजर्स बोले- ‘सभी को बधाई, अब दिल खोलकर गाड़ी घुमाओ’

0

लगातार 16 दिन तक पेट्रोल-डीजल के दाम में बढ़ोत्तरी के बाद बुधवार (30 मई) को दोनों ईंधन के दामों में कटौती तो की गई, लेक‍िन वो भी सिर्फ 1 पैसे की कटौती हुई है। दरअसल इससे पहले सुबह में खबर आई थी कि पेट्रोल 60 पैसे और डीजल 56 पैसे प्रति लीटर सस्ता हुआ। लेकिन कुछ देर बाद ही इंडियन ऑयल ने अपनी सफाई में कहा कि टाइपिंग की गलती से उसकी वेबसाइट पर 60 पैसे दाम घटाने की लिस्ट जारी हो गई थी, जबकि दाम सिर्फ एक पैसे कम हुए हैं।

प्रतीकात्मक तस्वीर: PTI

कीमतों में एक पैसे की कमी के बाद दिल्ली में अब एक लीटर पेट्रोल की कीमत 78.42 रुपये हो गई है। जबकि आर्थिक राजधानी मुंबई में अब 86.23 रुपये प्रति लीटर हो गया है। वहीं, दिल्‍ली में डीजल 69.30 रुपये प्रति लीटर और मुंबई में 73.78 रुपये प्रति लीटर हो गया है। बता दें कि कर्नाटक विधानसभा चुनाव के बाद से लगातार पेट्रोल और डीजल की कीमतों में बढ़ोतरी हो रही थी।

डायनमिक प्राइसिंग सिस्टम को 14 मई को दोबारा अमल में लाए जाने के बाद से रोजाना के आधार पर पेट्रोल और डीजल के दामों में संशोधन किया जा रहा है। इंडियन ऑयल लिमिटेड (आईओएल) की वेबसाइट के मुताबिक दिल्ली में पेट्रोल 78 रुपये 42 पैसे प्रति लीटर, कोलकाता में 81 रुपये 05 पैसे, मुंबई में 86 रुपये 23 पैसे और चेन्नई में 81 रुपये 42 पैसे प्रति लीटर की दर से बिक रहा है।

(आईओसी की साइट पर बुधवार को पेट्रोल के दाम)

वहीं, अगर डीजल की बात करें तो दिल्ली में डीजल 69 रुपये 30 पैसे प्रति लीटर, कोलकाता में 71 रुपये 85 पैसे, मुंबई में 73 रुपये 78 पैसे और चेन्नई में 73 रुपये 17 पैसे प्रति लीटर की दर से बिक रहा है। दरअसल पेट्रोल और डीजल की कीमतों में लगातार 16 दिनों से जारी इजाफे के कारण के लोग खासे परेशान हैं। इस वजह से देश की सबसे तेल विक्रता कंपनी की साइट पर दी गई पेट्रोल डीजल की कीमतों में 60 पैसों की कमी की इस जानकारी ने उन्हें थोड़ी राहत जरूर दी थी, लेकिन वह गलत साबित हुई।

(आईओसी की साइट पर बुधवार को डीजल के दाम)

बता दें कि पेट्रोलियम पदार्थों की कीमत में हो रही बढ़ोतरी को लेकर विपक्ष मोदी सरकार पर निशाना साध रहा है। चुनावी वर्ष में यह भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के लिए चिंता का कारण बन सकता है। 26 मई को मोदी सरकार के कार्यकाल का चार वर्ष पूरे हो गए और अब अगले साल चुनावी मैदान में उतरना है। ऐसे केंद्र के लिए सबसे बड़ी चिंता की वजह पेट्रोलियम पदार्थों की कीमतों में हो रही बढ़ोतरी है।

देखिए, 1 पैसे की कटौती के बाद यूजर्स ने कैसे लिए मजे:-

पेट्रोल-डीजल की आसमान छूती कीमतों पर सुनिए लोगों की प्रतिक्रिया

पेट्रोल-डीजल की आसमान छूती कीमतों पर सुनिए लोगों की प्रतिक्रिया

Posted by जनता का रिपोर्टर on Tuesday, 22 May 2018

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here