नीतीश कुमार छठी बार बने बिहार के मुख्यमंत्री, सुशील मोदी ने ली डिप्टी CM पद की शपथ

0

बिहार में महागठबंधन खत्म हो गया है। नीतीश कुमार फिर राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) के साथ हो गए हैं।महागठबंधन की सरकार से इस्तीफे के तुरंत बाद नीतीश कुमार को बीजेपी का साथ मिल गया और अब वह दोबारा आज(27 जुलाई) मुख्यमंत्री पद की शपथ ले लिए हैं। नीतीश कुमार छठी बार बिहार के मुख्यमंत्री बने हैं। वहीं, सुशील मोदी एक बार फिर बिहार के उप-मुख्यमंत्री बने हैं।इससे पहले देर रात नीतीश कुमार ने बीजेपी विधायकों के साथ राज्यपाल केसरी नाथ त्रिपाठी से मिलकर सरकार बनाने का दावा पेश किया। वहीं, तेजस्वी यादव ने भी 100 विधायकों के साथ रात में राजभवन तक मार्च किया। राज्यपाल ने उन्हें सुबह 11 बजे मिलने का समय दिया, लेकिन बाद में नीतीश कुमार को सुबह 10 बजे ही शपथ के लिए बुलाकर नीतीश का रास्ता साफ कर दिया, जिससे खफा तेजस्वी ने राज्यपाल के फैसले के खिलाफ कोर्ट जाने की बात कही है।

नीतीश कुमार ने दिया इस्तीफा

इससे पहले बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने अपने उप मुख्यमंत्री तेजस्वी यादव के खिलाफ भ्रष्टाचार के आरोपों के मुद्दे पर गठबंधन के सहयोगी दल राजद के साथ ना मिट सकने वाले मतभेदों का हवाला देते हुए बुधवार(26 जुलाई) को इस्तीफा दे दिया।

कुमार ने राज्यपाल केसरी नाथ त्रिपाठी को इस्तीफा सौंपने के बाद राज भवन के बाहर संवाददाताओं से कहा कि बिहार में जो परिस्थितियां बनी हुई, उसमें महागठबंधन सरकार चलाना मुश्किल हो गया है।’ नीतीश ने कहा कि मैंने इसे सुलझाने की कोशिश की, मैंने किसी से इस्तीफे के लिए नहीं कहा। उन्होंने कहा कि मैंने केवल तेजस्वी से भ्रष्टाचार के आरोपों पर स्पष्टीकरण देने के लिए कहा था।

बहुमत का आंकड़ा पार

बिहार विधानसभा का वह आंकड़ा बताते हैं जिससे बीजेपी-जेडीयू की सरकार आसानी से बन जाएगी। बिहार में जेडीयू के 71 विधायक हैं और बीजेपी के 53, ऐसे में दोनों पार्टियां मिलकर आसानी से बहुमत का आंकड़ा पार कर लेती हैं।
बिहार में बहुमत का आंकड़ा 122 है और दोनों पार्टियों के 124 विधायक हो रहे हैं। नीतीश कुमार ने 20 नवंबर 2015 को मुख्यमंत्री पद की शपथ ली थी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here