NGT ने अमरनाथ यात्रा के दौरान मंत्रोच्चारण, जयकारों और घंटियां बजाने पर लगाई रोक

0

राष्ट्रीय हरित प्राधिकरण (NGT) ने बुधवार (13 दिसंबर) को एक बड़ा आदेश जारी करते हुए अमरनाथ श्राइन बोर्ड से कहा है कि वह अमरनाथ पवित्र गुफा के पास जयकारे लगाने और मंत्रों के उच्चारण करने पर रोक लगाए। इसके साथ ही एनजीटी ने यात्रा के दौरान आखिरी चेक पोस्ट के बाद मोबाइल और घंटियां ले जाने पर भी पाबंदी लगाने का आदेश दिया है।

PHOTO: IE

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक एनजीटी ने अमरनाथ को साइलेंस जोन घोषित करने का आदेश देते हुए कहा कि यह इलाका पर्यावरण की दृष्टि से बेहद संवेदनशील है। इस इलाके में ग्लेशियरों की संवेदनशीलता को ध्यान में रखते हुए यहां शोर-शराबा नहीं होना चाहिए और यात्रियों की संख्या भी सीमित होनी चाहिए।

नवभारत टाइम्स की रिपोर्ट के मुताबिक एनजीटी ने अमरनाथ को साइलेंस जोन घोषित करने का आदेश देते हुए कहा कि यह इलाका पर्यावरण की दृष्टि से बेहद संवेदनशील है। इस इलाके में ग्लेशियरों की संवेदनशीलता को ध्यान में रखते हुए यहां शोर-शराबा नहीं होना चाहिए और यात्रियों की संख्या भी सीमित होनी चाहिए।

जस्टिस स्वतंत्र कुमार की अध्यक्षता वाली बेंच ने अमरनाथ श्राइन बोर्ड को आदेश देते हुए कहा कि अमरनाथ मंदिर में घंटियां नहीं बजनी चाहिए। साथ ही मंत्र और जयकारें भी न लगाए जाए। इसके अलावा आखिरी चेक पोस्ट पर श्रद्धालुओं को को मोबाइल फोन और अन्य सामान ले जाने की भी अनुमति नहीं दी जानी चाहिए।

एनजीटी ने अपने आदेश में कहा कि, ‘श्राइन बोर्ड को यह ध्यान रखना चाहिए कि वहां एक अलग स्टोर रूम बनना चाहिए, जहां लोग अपने सामान को जमा करा सकें।’ यही नहीं एनजीटी ने अपने आदेश में कहा कि श्राइन बोर्ड को यह तय करना चाहिए कि लोग आखिरी चेक पोस्ट से अमरनाथ गुफा तक एक ही लाइन में जाएं।

बता दें कि इससे पहले NGT ने पिछले महीने 13 नवंबर को निर्देश दिया था कि जम्मू स्थित माता वैष्णो देवी मंदिर में दर्शन के लिए प्रतिदिन केवल 50,000 तीर्थयात्रियों को ही जाने की इजाजत होगी। NGT ने कहा कि यदि संख्या तय सीमा से अधिक होती है तो तीर्थयात्रियों को कटरा या अर्द्धकुमारी में रोक दिया जाएगा।

 

 

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here