RSS प्रमुख मोहन भागवत ने DM के आदेश को किया खारिज, रोक के बावजूद केरल के स्कूल में फहराया तिरंगा

0

आज(15 अगस्त) पूरा देश 71वां स्वतंत्रता दिवस रहा है। इस बीच राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ(RSS) प्रमुख मोहन भागवत ने मंगलवार(15 अगस्त) को स्वतंत्रता दिवस के मौके पर जिलाधिकारी के आदेश को खारिज करते हुए केरल के पलक्कड़ जिले में स्थित एक स्कूल में झंडा फहराया। DM की रोक के बावजूद आरएसएस प्रमुख द्वारा झंडा फहराए जाने के बाद यहां तनाव की स्थिति है।

File Photo: PTI

हालांकि, वहां के जिलाधिकारी ने तिरंगा फहराने से मना किया था। डीएम ने एक आदेश जारी कर कहा था कि कोई भी राजनेता स्कूल में तिरंगा ना फहराए, लेकिन भागवत ने इस आदेश को दरकिनार कर दिया। इससे पहले पलक्कड़ के स्कूल में जिला प्रशासन ने मोहन भागवत को तिरंगा फहराने से रोक दिया।

जिलाधिकारी ने सभी स्कूलों को एक आदेश जारी कर कहा कि कोई नेता सरकार से सहायता प्राप्त स्कूल में भारतीय ध्वज नहीं फहरा सकता है। डीएम ने कहा कि स्कूल में कोई शिक्षक या निर्वाचित प्रतिनिधि ही तिरंगा फहरा सकता है। हालांकि, बीजेपी ने जिलाधिकारी ने आदेश को खारिज करते हुए गैर-जरूरी करार दिया।

इसके बाद डीएम के आदेश को चुनौती देते हुए बीजेपी कार्यकर्ताओं ने कहा कि संघ प्रमुख इसी स्कूल में ही झंडा फहराएंगे। कुछ देर हंगामा होने के बाद भागवत ने पलक्कड़ के स्कूल में तिरंगा फहराया। बीजेपी और आरएसएस का कहना है कि झंडा नियमों के मुताबिक स्वतंत्रता दिवस पर कोई भी स्कूल में ध्वजारोहण कर सकता है। गौरतलब है कि बीजेपी और आरएसएस पिछले काफी समय से केरल में अपनी पैठ बनाने की कोशिश में लगे हुए हैं।

PM मोदी ने लाल किले से फहराया गया झंडा

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भ्रष्टाचार और कालाधन के खिलाफ लड़ाई जारी रखने की सरकार की प्रतिबद्धता जताते हुये आज कहा कि सरकार के इस दिशा में उठाये गये कदमों से देश में ईमानदारी का उत्सव मनाया जा रहा है और बेईमानी को सिर छुपाने की जगह नहीं मिल रही है। उन्होंने कहा कि इतने कम समय में जीएसटी का लागू होना देश के लिये गर्व की बात है।

स्वतंत्रता दिवस पर दिल्ली के लालकिले की प्राचीर से राष्ट्र को संबोधित करते हुये प्रधानमंत्री ने कहा कि भ्रष्टाचार के खिलाफ हमारी लड़ाई जारी रहेगी। सरकार द्वारा उठाये गये कदमों से देश में आज ईमानदारी का उत्सव मानाया जा रहा है जबकि बेईमानी के लिये सिर छुपाने की जगह नहीं मिल रही है। भ्रष्टाचार के खिलाफ जारी लड़ाई में 800 करोड़ रुपये के बेनामी संपत्ति जब्त की गई है।

प्रधानमंत्री ने नोटबंदी का जिक्र करते हुये कहा कि इस कार्य में 125 करोड़ देशवासियों ने पूरा साथ दिया। नोटबंदी से भ्रष्टाचार पर नकेल कसने में सफल रहे। नोटबंदी से दो लाख करोड़ रुपये का कालाधन बैंकों में आया और करीब 1.75 लाख करोड़ रुपये की राशि जांच के घेरे में है।

मोदी ने अपने करीब एक घंटे के भाषण में देश की सांस्कृतिक विरासत का जिक्र करने से लेकर, अच्छी वर्षा, रिकार्ड फसल उत्पादन की भी बात कही। वह प्राकृतिक आपदाओं और गोरखपुर के अस्पताल में हुई मासूम बच्चों की मौत पर अपनी संवेदना व्यक्त की। उन्होंने कहा कि बाढ़ प्रभावित राज्यों में केन्द्र सरकार हर संभव सहायता उपलब्ध कराएगी।

उन्होंने वर्ष 2022 तक जब देश की आजादी के 75 वर्ष पूरे होंगे एक नया भारत बनाने का संकल्प व्यक्त किया। उन्होंने देश की आजादी के दिवानों की उम्मीद के अनुरूप समृद्ध, शक्तिशाली और विग्यान के क्षेत्र में अग्रणी भारत बनाने का संकल्प जताया।

 

 

 

 

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here