ईसाई धर्म के शख्स से शादी करने पर हिंदू लड़की को 22 दिन तक बंधक बना कर रखा गया

0

केरल में एक 28 वर्षीय हिंदू महिला को कोची के एक योग केंद्र में सिर्फ इसलिए 22 दिन तक बंधक बना कर रखा गया गया ताकि वो ईसाई व्यक्ति से शादी ना कर सके। यह जानकारी तब सामने आई जब महिला ने केरल हाई कोर्ट में याचिका दायर की। साथ ही महिला ने आरोप लगाया है कि योग केंद्र में उसे शारीरिक और मानसिक रूप से प्रताड़ित किया गया।

हिंदू महिला
प्रतिकात्मक फोटो

अपने हलफनामे में महिला ने दावा किया है कि इस योग केंद्र में दूसरी 60 महिलाओं को भी बंधक बना कर रखा गया था जो गैर-धर्म के युवकों से शादी करना चाहती थीं। टाइम्स ऑफ इंडिया की ख़बर के मुताबिक, डॉक्टर श्वेता नामक इस महिला ने योग केंद्र से भागने के बाद केरल हाई कोर्ट में हलफनामा दायर किया। केरल हाई कोर्ट में 27 जुलाई को 29 वर्षीय रिंट आइजक द्वारा दायर याचिका पर सुनवाई चल रही है।

श्वेता और आइजक ने पीची के एक मंदिर में शादी की थी और विशेष विवाह अधिनियम के तहत अपनी शादी पंजीकृत करायी थी। श्वेता के अनुसार वो आइजक के साथ 10 महीने से रह रही थी लेकिन उसके परिवार वालों ने योग केंद्र में जाकर परामर्श के लिए मजबूर कर दिया।

श्वेता का कहना है कि, वहां पर अक्सर उसके हाथ बांधकर रखे जाते थे। श्वेता के अनुसार उसे योग केंद्र में जमीन पर सोना पड़ता था और वहां के शौचालय का दरवाजा बंद नहीं होता था, श्वेता के अनुसार वहां कई लड़कियां सालों से बंधक हैं और उनमें से ज्यादातर बीमार थीं।

ख़बरों के अनुसार, श्वेता ने जब योग केंद्र की सारी बातें मानने का अभिनय शुरू किया तो उसपर निगरानी थोड़ी ढीली कर दी गयी और इसी का मौका पाकर वो वहां से भागने में कामयाब हो पाई। श्वेता ने हाई कोर्ट से पुलिस सुरक्षा दिलवाने की भी गुहार की है। हाई कोर्ट ने योग केंद्र को मामले में पक्षकार बनाने का आदेश दिया है ताकि वो अपना पक्ष रख सके।

ख़बरों के अनुसार, श्वेता ने जिस योग केंद्र के खिलाफ हलफनामा दिया है उसे स्थानीय पंचायत ने मनोज उर्फ गुरुजी द्वारा चलाए जा रहे योग विद्या केंद्र को बंद करने का नोटिस दिया है। उदयमपरूर पुलिस ने योग केंद्र के श्रीजेश को सोमवार(25 सितंबर) को गिरफ्तार कर लिया है वहीं योग केंद्र के प्रमुख मनोज समेत चार योग टीचर फरार हैं।

"
"

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here