PNB घोटाला: राहुल गांधी का प्रधानमंत्री पर तंज, कहा- ‘PM मोदी को गले लगाओं और 12,000 करोड़ लूट लो’, केजरीवाल ने भी बोला हमला

0

पंजाब नेशनल बैंक (PNB) में 11 हजार करोड़ रुपये से अधिक के घपले का खुलासा होने के बाद राजनीति शुरू हो गई है। बता दें कि पीएनबी ने स्टॉक एक्सचेंज को बताया है कि मुंबई की एक ब्रांच में 1.8 अरब डॉलर यानी करीब 11,300 करोड़ रुपए की धोखाधड़ी सामने आई है। केंद्र में सत्ताधारी भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) जहां कांग्रेस पर इस फ्रॉड के लिए दोषी बता रही है, वहीं कांग्रेस सहित अन्य राजनीतिक पार्टियां प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर निशाना साध रही है।

राहुल गांधी
फाइल फोटो: @OfficeOfRG

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने ट्वीट कर केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार को घेरा है। राहुल गांधी ने अपने ट्वीट में एक तरह से आरोप लगाए हैं कि इस घोटाले के मुख्य आरोपी नीरव मोदी दावोस में पीएम मोदी के साथ देखे गए थे। उन्होंने कहा कि पहले पीएम मोदी के साथ दिखो और फिर जनता के पैसे लेकर माल्या की तरह फरार हो जाओ।

राहुल गांधी ने लिखा कि भारत को लूटने का तरीका नीरव मोदी ने समझाया है। सबसे पहले नरेंद्र मोदी को गले मिलो, दावोस में पीएम मोदी के साथ भी दिखो। कांग्रेस अध्यक्ष ने लिखा कि देश के 12000 करोड़ रुपए चुराओ और विजय माल्या की तरह देश से पैसे लेकर भाग जाओ।

राहुल ने ट्वीट कर लिखा, नीरव मोदी का भारत को लूटने का तरीका- पहले पीएम मोदी को गले लगाओ, फिर डावोस में पीएम मोदी के साथ दिखो, इसके बाद इन इन सब की ताकत को इस्तेमाल करके, 12,000 करोड़ रुपया चोरी कर लो और विजय माल्या की तरह देश छोड़कर भाग जाओ, जबकि सरकार दूसरी ओर तकती रहेगी।

राहुल ने अपने ट्वीट में एक हैशटैग का इस्तेमाल किया जिसमें लिखा है #From1MODI2another यानी एक मोदी से दूसरे मोदी तक की कहानी। वहीं कांग्रेस के नेता रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि नीरव मोदी कौन हैं? क्या यह नया मोदीस्कैम है। क्या उसे भी ललित मोदी और विजय माल्या की तरह सरकार के किसी व्यक्ति ने सूचना दी थी, ताकि वह लोगों के पैसों को लेकर विदेश भाग सके? इसका जिम्मेदार कौन है?

वहीं कांग्रेस के अलावा दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने भी नीरव मोदी के विदेश जाने पर बीजेपी सरकार पर सवाल उठाया है। केजरीवाल ने एक ट्वीट को रीट्वीट करते हुए बीजेपी सरकार को घेरा। केजरीवाल ने कहा कि, क्या ये संभव है कि विजय माल्या या नीरव मोदी बीजेपी सरकार की मिलीभगत के बगैर देश से बाहर चले जाएं?

विपक्ष जहां इस मामले में मोदी सरकार पर हमला कर रही है। वहीं केंद्र सरकार ने इसे कांग्रेस का पाप करार दिया है। अमर उजाला के मुताबिक, केंद्रीय वित्त राज्यमंत्री शिव प्रताप शुक्ला ने एक बयान में कहा है कि यह घोटाला कांग्रेस के शासन मे हुआ है। कांग्रेस आरोप लगाने से पहले अपने आप को देखे। शुक्ला ने सवाल पूछते हुए कहा कि 2011 से 2014 के बीच क्या कांग्रेस सो रही थी? उन्होंने कहा कि मोदी सरकार ने इस घोटाले को सामने लाने का जबकि कांग्रेस घोटाले की सरकार थी।

बता दें कि इस मामले में अरबपति ज्वैलरी कारोबारी नीरव मोदी के खिलाफ एफआईआर दर्ज हो गई है। इस मामले में ईडी ने देशभर में कई जगह छापेमारी भी की है। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक छापेमारी के बाद सीबीआई ने मुंबई के हाजी अली दरगाह के पास वर्ली में स्थित नीरव मोदी का घर भी सील कर दिया है। वहीं रिपोर्ट के मुताबिक नीरव मोदी ने PNB को खत लिख कहा है कि वह सभी पैसे लौटाने को तैयार हैं।

उन्होंने इसके लिए 6 महीने का समय मांगा है। उन्होंने कहा है कि वह फायर स्टार डायमंड्स के जरिए पैसे लौटा दूंगा, जिसकी कीमत 6400 करोड़ रुपए है। वहीं रिपोर्ट्स के मुताबिक नीरव इस समय देश में नहीं हैं। सूत्रों के मुताबिक यह हीरा कारोबारी इस समय स्विट्जरलैंड में बताया जा रहा है। इस बीच बॉलिवुड अभिनेत्री प्रियंका चोपड़ा ने नीरव पर धोखाधड़ी का मुकदमा ठोका है।

क्या है पूरा मामला?

दरअसल, पंजाब नेशनल बैंक (PNB) में 11 हजार करोड़ रुपये से अधिक का फ्रॉड ट्रांजैक्शन का मामला सामने आया है। मुंबई की शाखाओं में हुई इस धांधली को लेकर सीबीआई में दो शिकायतें दर्ज हुई हैं। पंजाब नेशनल बैंक ने स्टॉक एक्सचेंज को बताया कि मुंबई की एक ब्रांच में 1.8 अरब डॉलर यानी करीब 11,300 करोड़ रुपए की धोखाधड़ी सामने आई है। कुछ चुनिंदा खाताधारकों को लाभ पहुंचाने के लिए उनकी सहमति से ये लेनदेन किए गए। बैंक ने कहा कि लेनदेन के आधार पर अन्य बैंकों ने संभवत: कुछ ग्राहकों को विदेशों में कर्ज दिया है।

मामले को पहले ही विधि प्रवर्तन एजेंसियों को भेजा गया है, जिससे दोषियों पर कार्रवाई हो सके। घपले की जांच कर रही पीएनबी की आंतरिक कमेटी ने बैंक के दो अधिकारियों पर एफआईआर दर्ज कराई है। वहीं, 10 कर्मचारियों को तत्काल प्रभाव से निलंबित किया गया है। घोटाले के तार रत्न व आभूषण के प्रसिद्ध कारोबारी नीरव मोदी से जुड़े हुए हैं, जिनके खिलाफ पीएनबी ने एक पखवाड़े पहले 280 करोड़ रुपये के फ्रॉड का आरोप लगाते हुए जांच सीबीआई को सौंपी थी।

यह महाघोटाला कथित रूप से कारोबारी नीरव मोदी ने किया है। प्रवर्तन निदेशालय ने सीबीआई की एफआईआर के आधार पर नीरव मोदी पर धोखाधड़ी का केस दर्ज किया है। इस मामले में नीरव मोदी ने कथित रूप से बैंक की मुंबई शाखा से धोखाधड़ी वाला गारंटी पत्र (एलओयू) हासिल कर अन्य भारतीय कर्जदाताओं से विदेशी कर्ज हासिल किया। इस महाधोखाधड़ी मामले में नीरव मोदी का नाम सामने आने के बाद उनके खिलाफ कार्रवाई शुरू हो गई है।

प्रवर्तन निदेशालय ने गुरुवार (15 फरवरी) को नीरव के 9 ठिकानों पर छापे मारे हैं। 11,400 करोड़ रुपये के इस फर्जीवाड़े में सीबीआई ने भी 31 जनवरी को एक FIR दर्ज की थी। प्रवर्तन निदेशालय ने गुरुवार को नीरव मोदी के दिल्ली, मुंबई, सूरत के नौ शो-रूम पर छापे मारे हैं। ईडी ने नीरव मोदी केे मुंबई के कालाघोड़ा इलाके के शोरूम पर भी छापा मारा है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक नीरव मोदी इस समय देश में नहीं हैं।

वहीं, हीरा कारोबारी नीरव मोदी द्वारा किए गए महाघोटाले पर गुरुवार को पंजाब नैशनल बैंक (PNB) मैनेजमेंट सामने आया और सफाई दी। बैंक के एमडी सुनील मेहता ने कहा कि फर्जीवाड़े की रकम वसूलने का काम शुरू हो चुका है और आरोपी की संपत्ति जब्त करने की प्रक्रिया चल रही है। उन्होंने कहा कि, ‘बैंक इस फर्जीवाड़े के दोषियों को पकड़ने और उनके खिलाफ कानूनी कार्रवाई करने के लिए अपनी पूरी क्षमता लगा रहा है और वह इस मामले निपटने में पूरी तरह सक्षम है।’

 

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here