गुजरात राज्यसभा की तीन सीटों पर मतदान शुरू, BJP-कांग्रेस के बीच प्रतिष्ठा बचाने की लड़ाई

0

गुजरात में राज्यसभा की तीन सीटों के लिए मंगलवार(8 अगस्त) को मतदान शुरू हो गया है। इसके लिए सत्ताधारी भारतीय जनता पार्टी(भाजपा) और कांग्रेस के बीच सियासी जंग तेज हो गई है। कांग्रेस नेता अहमद पटेल ने अपनी सीट बरकरार रखने के लिए पार्टी विधायकों को आणंद के एक रिसॉर्ट में एकजुट कर रखा है। वहीं, बीजेपी महासचिव भूपेंद्र यादव ने दावा किया कि भाजपा तीनों सीटें जीतेगी।

दरअसल, यह राज्यसभा चुनाव सत्ताधारी बीजेपी और विपक्षी पार्टी कांग्रेस के लिए प्रतिष्ठा का प्रश्न बन गया है। बीजेपी द्वारा गुजरात से संसद के उच्च सदन(राज्यसभा) के लिए पार्टी अध्यक्ष अमित शाह और केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी को उतारने और कांग्रेस की तरफ से मैदान में अहमद पटेल के खड़े होने से यहां चुनावी मुकाबला काफी दिलचस्प हो गया है।

गुजरात में इस साल के अंत में होने वाले विधानसभा चुनावों से पहले इस चुनावी जंग के कारण सियासी सरगर्मियां काफी तेज हैं। यह जंग नाटकीय राजनीतिक घटनाक्रमों से शुरू हुई है जिसमें वरिष्ठ कांग्रेसी नेता शंकर सिंह वाघेला का विद्रोह, आधा दर्जन पाटी विधायकों का इस्तीफा और 44 विधायकों को बीजेपी के कथित तौर पर अपने पाले में करने के प्रयासों से सुरक्षित रखने के लिए बेंगलुरु स्थानांतरित करने जैसी घटनाएं शामिल हैं।

कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी के राजनीतिक सचिव पटेल को जीतने के लिए 45 मत चाहिए। उनकी पार्टी को वर्तमान में 44 विधायकों का समर्थन प्राप्त है जो बेंगलुरु के समीप एक रिजॉर्ट में एक हफ्ते तक ठहरने के बाद लौटे हैं। सोमवार सुबह लौटने पर उन्हें आणंद जिले के एक रिजॉर्ट में ठहराया गया है। इनमें से कोई भी अगर क्रॉस वोटिंग या नोटा का प्रयोग नहीं करता है, उस स्थिति में भी कांग्रेस को पटेल की जीत सुनिश्चित करने के लिए एक अतिरिक्त मत की जरूरत होगी।

संसद के उच्च सदन में तीन रिक्तियों के लिए चार दावेदार मैदान में हैं और इसमें आखिर तक कुछ भी हो सकने की संभावना जताई जा रही है। अमित शाह और स्मृति इरानी के अलावा बीजेपी ने बलवंत सिंह राजपूत का नाम आगे बढ़ाया है, जो हाल ही में कांग्रेस छोड़ सत्ताधारी पार्टी में शामिल हुए हैं। कांग्रेस एनसीपी के दो विधायकों और जेडीयू एवं गुजरात परिवर्तन पार्टी (जीपीपी) के एक-एक विधायक के समर्थन की उम्मीद कर रही है।

राज्य निर्वाचन आयोग के अनुसार एक प्रत्याशी को जीतने के लिए कुल मतों में से एक चौथाई और एक अतिरिक्त मत हासिल करना होगा यानि एक प्रत्याशी को 45 मत प्राप्त होने चाहिए। सदन में 121 विधायकों वाली बीजेपी के दो उम्मीदवार आसानी से जीत हासिल कर सकते हैं, लेकिन पार्टी आंकड़ों के हिसाब से तीसरे प्रत्याशी के लिए उनके पास केवल 31 मत हैं। पार्टी सूत्रों ने बताया कि बीजेपी ने अपने सभी विधायकों को गांधीनगर बुलाया था जहां उन्हें राज्यसभा में मतदान को लेकर दिशा-निर्देश दिए गए।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here