कोरोना वैक्सीन को लेकर अच्छी खबर: DCGI ने सीरम इंस्टिट्यूट और भारत बायोटेक की वैक्सीन के इमर्जेंसी इस्तेमाल को दी मंजूरी, पीएम मोदी बोले- ‘कोविड मुक्त भारत’ की दिशा में तेज गति से आगे बढ़ने में मिलेगी मदद

0

कोरोना वैक्सीन को लेकर देश वासियों के लिए अच्छी खबर सामने आई है। एक्सपर्ट कमिटी की सिफारिश के बाद ड्रग कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया (DCGI) ने दो कोरोना वैक्सीन को मंजूरी दे दी है। डीसीजीआई ने सीरम इंस्टीट्यूट की वैक्सीन कोविशील्ड और भारत बायोटेक की वैक्सीन कोवैक्सीन को आपातकालीन स्थिति में इस्तेमाल को मंजूरी दे दी है। अब यह वैक्सीन देश में लोगों को लगाए जा सकते हैं।

कोरोना वैक्सीन
फाइल फोटो: सोशल मीडिया

वैक्सीन के सुरक्षित होने के सवाल पर डीसीजीआई के निदेशक ने कहा कि दोनों ही वैक्सीन पूरी तरह से सुरक्षित हैं और इसका इस्तेमाल इमरजेंसी की स्थिति में किया जा सकेगा। डीसीजीआई के अनुसार, दोनों ही वैक्सीन की दो-दो डोज इंजेक्शन के रूप में दी जाएगी। ड्रग कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया ने कहा कि वैक्सीन 110 प्रतिशत सु​रक्षित हैं। उन्होंने कहा कि किसी भी वैक्सीन के थोड़े साइड इफेक्ट होते हैं जैसे दर्द, बुखार, एलर्जी होना। वैक्सीन से लोग नपुंसक हो सकते हैं, यह दावा पूरी तरह से बकवास है।

भारत में कोरोना वैक्सीन के इमर्जेंसी इस्तेमाल को मंजूरी मिलने के बाद विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने भी इसका स्वागत किया है। WHO के साउथ ईस्ट एशिया रीजन की रीजनल डायरेक्टर डॉ. पूनम खेत्रपाल सिंह ने कहा- विश्व स्वास्थ्य संगठन कोविड-19 वैक्सीन्स के इमर्जेंसी इस्तेमाल को मंजूरी देने के भारत के निर्णय का स्वागत करता है।

सीरम इंस्टिट्यूट ऑफ इंडिया, पुणे के सीईओ अदार पूनावाला ने भी इस बारे में ट्वीट करके जानकारी दी। उन्होंने ट्वीट किया- सभी को नया साल मुबारक हो। कोविशील्ड, भारत के पहले COVID-19 वैक्सीन को मंजूरी मिल गई है। सुरक्षित और प्रभावी यह वैक्सीन आने वाले हफ्तों में रोल-आउट के लिए तैयार है।

दोनों वैक्सीन के इमर्जेंसी इस्तेमाल को मंजूरी मिलने के बाद पीएम मोदी ने ट्वीट करके कहा- “वैश्विक महामारी के खिलाफ भारत की जंग में एक निर्णायक क्षण! @SerumInstIndia और @BharatBiotech की वैक्सीन को DCGI की मंजूरी से एक स्वस्थ और कोविड मुक्त भारत की मुहिम को बल मिलेगा। इस मुहिम में जी-जान से जुटे वैज्ञानिकों-इनोवेटर्स को शुभकामनाएं और देशवासियों को बधाई।”

पीएम ने अपने ट्वीट में आगे कहा, “यह गर्व की बात है कि जिन दो वैक्सीन के इमरजेंसी इस्तेमाल को मंजूरी दी गई है, वे दोनों मेड इन इंडिया हैं। यह आत्मनिर्भर भारत के सपने को पूरा करने के लिए हमारे वैज्ञानिक समुदाय की इच्छाशक्ति को दर्शाता है। वह आत्मनिर्भर भारत, जिसका आधार है- सर्वे भवन्तु सुखिनः सर्वे सन्तु निरामया।”

पीएम मोदी ने आगे कहा, “विपरीत परिस्थितियों में असाधारण सेवा भाव के लिए हम डॉक्टरों, मेडिकल प्रोफेशनल्स, वैज्ञानिकों, पुलिसकर्मियों, सफाईकर्मियों और सभी कोरोना वॉरियर्स के प्रति कृतज्ञता व्यक्त करते हैं। देशवासियों का जीवन बचाने के लिए हम सदा उनके आभारी रहेंगे।”

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here