मुंबई: घाटकोपर हादसे में मरने वालों की संख्या 17 पहुंची, शिवसेना नेता गिरफ्तार

0

मुंबई के घाटकोपर इलाके में मंगलवार(25 जुलाई) की सुबह एक 4 इमारत गिर गई थी, जिसमें मरने वालों की संख्या 17 पहुंच गई है। ख़बरों के मुताबिक, इमारत के मलबे से 28 लोगों को ज़िंदा निकाला गया है जिनमें 9 का अस्पताल में इलाज चल रहा है। रात में भी एनडीआरएफ और फायर ब्रिगेड की टीम राहत और बचाव का काम कर रही थी।

घाटकोपर
फोटो- DNA

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, इस मामले में बिल्डिंग के मालिक और शिवसेना नेता को पुलिस ने हिरासत में ले लिया है।बताया जा रहा है कि ये बिल्डिंग शिवसेना के नेता सुनील सिताप की है। आरोप है कि सुनील शिताप अवैध निर्माण करा रहा था, फ़िलहाल पुलिस मामले की जांच कर रही है। यह बिल्डिंग 40 साल पुरानी बताई जा रही है।

वहीं दूसरी और इस पूरे मामले को लेकर कल मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने घटना वाली जगह का दौरा किया और हादसे की जांच के आदेश दे दिए थे। साथ ही उन्होंने कहा कि, प्रभावित लोगों की हर संभव मदद की जाएगी।

बता दें कि, जब ये बिल्डिंग गिरी तो पूरे इलाके में दहशत का माहौल पैदा हो गई, इस बिल्डिंग के नीचे ही एक नर्सिंग होम भी चल रहा है था। बिल्डिंग के मलवे तले दबे लोगों को तुरंत निकालने का काम शुरू हुआ और जांच शुरू हुई तो पता चला की इस बिल्डिंग के नीचे शिवसेना नेता सुनील सिताप नामक शख्स का नर्सिंग होम भी चलता था।

मुंबई

इस हादसे के बाद वहां नेताओं और मंत्रियों के आने जाने का सिलसिला शुरू हो गया। इस बीच, घटनास्थल का दौरा करने के बाद भाजपा सांसद किरीट सोमैया ने पीटीआई भाषा से कहा कि वह प्रभावित एवं पीड़ित लोगों के लिए जल्द से जल्द राहत और पुनर्वास सुनिश्चित करेंगे।

पीटीआई (भाषा)की ख़बर के मुताबिक, बृहन्मुंबई महानगरपालिका बीएमसी के आपदा प्रबंधन प्रकोष्ठ के एक अधिकारी ने कहा, हमारा बचाव दल, अग्निशमन दल और एनडीआरएफ जवानों के साथ मिलकर मलबे से अभी तक 28 लोगों को निकाल चुका है जिनमें से 17 मृत घोषित किए जा चुके हैं और 11 अन्य घायलों को पास के शांतिनिकेतन और राजावाड़ी अस्पतालों में भर्ती करवाया गया है।

अधिकारी ने बताया कि उपनगर घाटकोपर में चार मंजिला एक आवासीय इमारत के मलबे से कल रात पांच शव निकाले गए थे। इस दौरान दो अग्निशमन कर्मी घायल भी हो गए थे जिन्हें एक अस्पताल में भर्ती करवाया गया है। ख़बरों के मुताबिक, प्रभावित और जीवित बचे लोगों के लिए नजदीक स्थित नगरपालिका स्कूलों में रहने के इंतजाम किए गए हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here