नोटबंदी को RBI के पूर्व गवर्नर ने बताया फेल, कहा- इससे कालेधन और भ्रष्टाचार पर कोई खास असर नहीं पड़ा

0

भारतीय रिजर्व बैंक के पूर्व गवर्नर वाईवी रेड्डी ने शनिवार को कहा कि नोटबंदी का कालेधन और भ्रष्टाचार पर काफी मामूली असर पड़ा है। रेड्डी ने कहा कि नोटबंदी अभियान से एक नई पीढ़ी की डिजिटल अर्थव्यवस्था सामने आ रही है। यह इस अभियान के आकस्मिक प्रभाव स्वरूप हुआ है।

नोटबंदी
photo- Hindi News

पीटीआई की ख़बर के अनुसार, रेड्डी ने हैदराबाद विश्वविद्यालय में एक व्याख्यान में कहा, ‘अभी तक उपलब्ध आंकड़ों से पता चलता है कि नोटबंदी का लघु अवधि का आर्थिक प्रभाव काफी सीमित है। वहीं कालेधन और भ्रष्टाचार पर भी इसका सीधा असर सीमित है।’

Also Read:  हिंदुत्व की रक्षा और प्रचार-प्रसार के लिए सोशल मीडिया पर सैनिकों की फौज बनाएगा RSS से जुड़ा संगठन

साथ ही उन्होंने कहा कि 8 नवंबर, 2016 को नोटबंदी की घोषणा के बाद डिजिटलीकरण में कई गुना का इजाफा हुआ है। उसके बाद बजट में जो प्रावधान किए गए हैं उनसे टैक्स प्रशासन के नियामकीय अधिकार बढ़े हैं।

Also Read:  बिहार: शराब बंदी के बावजूद नशे में धुत डांस करते हुए पुलिसकर्मी का वीडियो हुआ वायरल, एसपी ने किया निलंबित


रेड्डी ने कहा, ‘आपने ऐसी स्थिति देखी है, जिसमें एक अरब लोगों को दो महीने तक उनकी कोई गलती नहीं होने के बावजूद असुविधा दी गई। देश में ऐसा पहले कभी नहीं हुआ। निर्दोष लोगों को हुए सामूहिक नुकसान के बावजूद जनता चुप रही।’

Also Read:  पाकिस्तान में महिला सांसद के साड़ी पहनने पर सीनेटर ने जताई आपत्‍ति, कहा- आपको अन्‍य महिलाओं के लिए आदर्श स्‍थापित करना चाहिए

उन्होंने कहा कि डिजिटलीकरण के कुछ जोखिम भी हैं, जिसमें काफी ऊंची सतर्कता बरतने की जरूरत है। बैंकिंग क्षेत्र के डूबे कर्ज पर उन्होंने कहा कि सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों में सरकार को सिर्फ पूंजी नहीं डालनी चाहिए, क्योंकि इससे निजी शेयरधारकों को अप्रत्याशित लाभ होता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here