दिल्ली यूनिवर्सिटी के दयाल सिंह कॉलेज का नाम बदलकर ‘वंदे मातरम महाविद्यालय’ किया गया

0

दिल्ली विश्वविद्यालय (डीयू) के दयाल सिंह सांध्य कॉलेज का नाम बदलकर ‘वंदे मातरम महाविद्यालय’ कर दिया गया है।दयाल सिंह सांध्य कॉलेज का नाम वंदे मातरम महाविद्यालय रखने के मामले में प्राचार्य डॉ. पवन शर्मा ने बताया कि उन्होंने कॉलेज का नाम बदलने की जानकारी शनिवार (18 नवंबर) को दिल्ली विश्वविद्यालय को दे दी है।

(HT FILE PHOTO)

न्यूज एजेंसी IANS की रिपोर्ट के मुताबिक, दयाल सिंह कॉलेज (सांध्य) ने अपना नाम बदलकर वंदे मातरम महाविद्यालय रखने का निर्णय लिया है। पिछले कई महीनों से यह दिन में चलने वाले कॉलेज की तरह कार्य कर रहा था। दयाल सिंह कॉलेज के शासी निकाय के अध्यक्ष अमिताभ सिन्हा ने कहा कि यह फैसला भ्रांति दूर करने के लिए लिया गया है।

रिपोर्ट के मुताबिक कॉलेज का नाम बदलने के लिए एक अधिसूचना 17 नवंबर को जारी की गई थी और इसे मंजूरी के लिए कुलपति के पास भेज दिया गया है। कांग्रेस पार्टी की छात्र शाखा एनएसयूआई ने शासी निकाय के इस फैसले पर सवाल उठाया और शासी निकाय पर पंजाब के पहले स्वतंत्रता सेनानी सरदार दयाल सिंह मजीठिया की ‘विरासत को अपमानित’ करने का आरोप लगाया।

अमिताभ सिन्हा ने बताया कि दयाल सिंह कॉलेज में दो कॉलेज थे, एक दिवाकालीन और दूसरा सांध्य। सांध्य कॉलेज के छात्रों को दोयम दर्जे का समझा जाता है। वे नौकरियों की तलाश में भी कठिनाइयों का सामना करते हैं। यही कारण है कि शासी निकाय ने इसे एक दिवाकालीन कॉलेज में बदल दिया।

उन्होंने कहा कि दिवाकालीन कॉलेज में परिवर्तित होने के बाद नाम को लेकर छात्रों के मन में भ्रम को दूर करने के लिए कॉलेज का नाम बदलने का फैसला लिया गया है। सिन्हा ने कहा कि उन्होंने स्वयं ‘वंदे मातरम’ नाम का प्रस्ताव रखा था, जिसे शासी निकाय द्वारा अपनाया गया। उन्होंने कहा कि शासी निकाय के सदस्यों ने इस फैसले का स्वागत किया और कहा कि इससे बेहतर नाम नहीं हो सकता।

इस मुद्दे पर एनएसयूआई द्वारा सवाल उठाए जाने के सवाल पर उन्होंने कहा कि मुझे इस विवाद की परवाह नहीं है। आप हर समय सभी लोगों को खुश नहीं कर सकते। उन्होंने कहा कि किसी को भी वंदे मातरम नाम पर कोई आपत्ति नहीं होनी चाहिए, क्योंकि यह हम सबकी मां के साथ जुड़ा शब्द है।

डीयू के कार्यकारी परिषद (ईसी) ने जुलाई में दिवाकालीन कॉलेज के फैकल्टी के विरोध के बावजूद दयाल सिंह (सांध्य) कॉलेज को दिवाकालीन कॉलेज में परिवर्तित होने के लिए मंजूरी दे दी थी। सांध्य कॉलेज ने 20 जुलाई से पहले वर्ष के छात्रों के लिए कक्षाएं सुबह आयोजित करना शुरू भी कर दिया था।

रिपोर्ट के मुताबिक यह कक्षाएं तब तक ऐसी ही चलती रहेंगी, जब तक वह पूरे तरीके से दिवाकालीन कॉलेज के रूप में संचालित करने में सक्षम नहीं हो जाते। मूल दिवाकालीन कॉलेज के छात्रों और शिक्षकों ने खाली जगह के विवाद का हवाला देते हुए इस फैसले का विरोध किया, जिसमें विलय का आयोजन होना है।

बता दें कि इससे पहले कॉलेज का नाम ‘मदन मोहन मालवीय कॉलेज’ रखने पर विचार किया गया। इसपर सिन्हा ने इंडियन एक्सप्रेस को बताया कि बाद में कॉलेज का नाम मदन मोहन मालवीय की जगह वंदे मातरम महाविद्यालय रखने पर सहमति बनी।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here