शर्मनाक: गोल्ड सहित 5 मेडल जीतकर लौटे दिव्यांगों का स्वागत तक नहीं हुआ, एयरपोर्ट पर खेल मंत्री के नहीं पहुंचने पर खिलाड़ियों ने किया प्रदर्शन

0

पिछले दिनों विश्वकप फाइनल हारने के बाद भी महिला क्रिकेटरों का एयरपोर्ट पर कदम रखते ही जोरदार स्वागत हुआ था और होना भी चाहिए, क्योंकि वह इस सम्मान के हकदार थे। आम तौर पर अंतरराष्ट्रीय मंच पर पदक जीतने वाले किसी भी खिलाड़ियों का स्वदेश लौटने पर सिर आंखों पर बैठा लिया जाता है।लेकिन यह शर्म की बात है कि बधिर ओलंपिक में न सिर्फ गोल्ड बल्कि रिकॉर्ड पांच मेडल जीतकर स्वदेश लौटे दिव्यांग खिलाड़ियों पर इनामों की बारिश तो दूर, खेल मंत्रालय का कोई अधिकारी स्वागत तक करने नहीं पहुंचा। हिंदुस्तान में छपी रिपोर्ट के मुताबिक, ये खिलाड़ी सुन और बोल नहीं सकते, लेकिन मंगलवार(1 अगस्त) सुबह दिल्ली एयरपोर्ट पर इस बेरुखी का उन्होंने कड़ा विरोध किया।

बधिर ओलंपिक 2017 के प्रोजेक्ट मैनेजर केतन शाह ने नाराजगी व्यक्त करते हुए कहा कि इन लोगों ने मेडल जीतकर देश का नाम रौशन किया है, लेकिन खेल मंत्री या सरकार की तरफ से कोई भी वहां एयरपोर्ट पर नहीं पहुंचा। उन्होंने कहा कि हमने इन खेलों में अब तक का सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन किया है, लेकिन हमें कोई सम्मान नहीं मिला। बता दें कि डीफ ओलंपिक 2017 टर्की में हुए थे।

रिपोर्ट के अनुसार, तुर्की में बधिरों के लिए आयोजित ओलंपिक में भाग लेकर 46 खिलाड़ी सुबह पांच बजे दिल्ली के इंदिरा गांधी अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट पर पहुंचे थे। इन खिलाड़ियों ने ओलंपिक में स्वर्ण सहित कुल पांच पदक जीते। बेहतरीन प्रदर्शन के चलते इन खिलाड़ियों को देश में शानदार स्वागत की उम्मीद थी, लेकिन उनकी उम्मीदों पर पानी फिर गया।

एयरपोर्ट पर पर देश का नाम रौशन करने वाले इन खिलाड़ियों के स्वागत के लिए न तो स्पोर्ट्स अथॉरिटी ऑफ इंडिया (साई) और न ही खेल मंत्रालय से कोई अधिकारी पहुंचा। इससे नाराज इन खिलाड़ियों ने करीब छह घंटे तक एयरपोर्ट पर प्रदर्शन किया। खिलाड़ियों की मांग थी कि खेल मंत्री विजय गोयल के आने के बाद ही प्रदर्शन खत्म करेंगे।

हिंदुस्तान के मुताबिक, मामला बढ़ता देख फौरन इसकी जानकारी खेल मंत्रालय और साई के अधिकारियों को दी गई। जिसके बाद सुबह लगभग 11 बजे साई के प्रोजेक्ट अधिकारी दिलीप सिंह मौके पर पहुंचे। इसके बाद सभी खिलाड़ियों को जवाहर लाल नेहरू स्टेडियम ले जाया गया। उन्होंने खिलाड़ियों को बताया कि सभी को शाम को खेल मंत्रालय ले जाया जाएगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here