बच्चियों से रेप के खिलाफ DCW का सत्याग्रह जारी, बलात्कारियों को 6 महीने में फांसी देने की मांग, महिलाओं को सुरक्षित माहौल देने के लिए 8 दिन से रात भर बसों, थानों और रेलवे स्टेशनों का दौरा कर रही हैं स्वाति जयहिंद

0

राष्ट्रीय राजधानी सहित देश भर में महिलाओं की सुरक्षा के लिए लड़ाई लड़ रही दिल्ली महिला आयोग (डीसीडब्ल्यू) की अध्यक्ष स्वाति जयहिंद का पिछले एक सप्ताह से सत्याग्रह जारी है। स्वाति ने मासूम बच्चियों के साथ बलात्कार करने वाले दोषियों को छह महीने के अंदर फांसी दिए जाने की मांग की है। 

इस अभियान के तहत स्वाति सहित आयोग की टीम चौबीसों घंटे काम रही है। बता दें कि साल 16 दिसंबर 2012 में हुई निर्भया गैंगरेप मामले में पांच साल बाद भी किसी भी आरोपियों को फांसी नहीं दी गई है, जबकि सभी दोषियों को कोर्ट फांसी की सजा सुना चुका है।

महिलाओं को सुरक्षित माहौल देने और बलात्कारियों को 6 महीने के अंदर फांसी देने की मांग को लेकर आयोग की टीम के साथ खुद स्वाति पिछले 8 दिनों से लगातार दिन-रात काम कर रही हैं। यह अभियान बाल दिवस (14 नवंबर) तक चलेगा। इन एक सप्ताह के दौरान स्वाति को एक पल भी आराम करने का मौका नहीं मिला है।

इस सत्याग्रह के दौरान आयोग की अध्यक्ष स्वाति जयहिंद अपने घर तक नहीं जा पा रही हैं। खुद स्वाति सहित आयोग की टीम रात के वक्त दिल्ली के अलग-अगल हिस्सों में जा रहे हैं और महिला सुरक्षा समेत महिलाओं से जुड़े अन्य मामलों की जानकारी ले रहे हैं। स्वाति का कहना है कि हम लोग ज्यादा से ज्यादा कम कर के अपना विरोध जताएंगे।

स्वाति ने सोमवार (13 नवंबर) को ट्वीट कर कहा कि, “सच में मन की शक्ति शरीर की शक्ति से बहुत ज़्यादा होती है। पिछले 8 दिनों से में लगातार काम कर रही हूँ। मुश्किल से कुल 16 घंटे की भी नींद नही नसीब हुई है इन दिनों में। फिर भी जुनून थकने नही दे रहा। सत्याग्रह में सच में बहुत शक्ति है। जय हिंद।”

गृहमंत्री राजनाथ से मिलकर की अपील

Also Read:  अखिलेश मुख्यमंत्री है और रहेंगे, रामगोपाल की बातों को मैं अब महत्व नहीं देता हूं: मुलायम सिंह यादव

आयोग की अध्यक्ष स्वाति जयहिंद ने इस मामले को लेकर केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह से मुलाकात कर यह मांग की है कि बच्चों के साथ होने वाली यौनाचार की घटनाओं पर रोक लगाने के लिए एक उच्चस्तरीय कमिटी तैयार की जानी चाहिए। आयोग का कहना है कि बलात्कारियों के अंदर डर पैदा करना होगा। साथ ही उन्हें हर हाल में 6 महीने में फांसी दे दी जानी चाहिए।

स्वाति का कहना है कि पिछले दो साल से केंद्र सरकार से मांग कर रहे हैं कि एक हाई लेवल कमेटी का गठन किया जाए जिसमें केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह, दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल, उपराज्यपाल, दिल्ली पुलिस आयुक्त और दिल्ली महिला आयोग को शामिल किया जाए।

ये सभी लोग मिलकर दिल्ली की महिलाओं को सुरक्षित माहौल देने के लिए ठोस निर्णय ले सके और छह महीने में छोटी बच्चियों के रेपिस्ट को फांसी की सजा कैसे हो इसका ढांचा तैयार करें। लेकिन दो साल बीत जाने के बाद भी आज तक हाई लेवल कमेटी नहीं बनाई गई है और न ही राजधानी में बच्चियों से रेप का सिलसिला रुक रहा है।

महिला शौचालयों का किया औचक निरीक्षण

इस आंदोलन के तहत स्वाति जयहिंद ने दिल्ली के अलग-अलग क्षेत्रों में बने शौचालयों का औचक निरीक्षण किया। इस दौरान त्रिलोकपुरी में बने एमसीडी का एक शौचालय मिला जहां महिलाओं के लिए बने शौचालय का उपयोग पुरूष कर रहे थे। इस शौचालय से एक व्यक्ति निकल रहा था, जबकि पुरुषों के लिए बना टॉयलेट बंद था। शौचालय के बाहर खड़ी महिला आयोग की अध्यक्ष ने बाहर निकल रहे शख्स से पूछा कि आप महिला शौचालय में क्या कर रहे है? तो उसने बताया कि पुरुष शौचालय में ताला लगा है कोई चाबी नही देता।

महिला सुरक्षा को लेकर रात भर बसों, थानों, और रेलवे स्टेशनों का लिया जायदा

इसके अलावा रात में महिला सुरक्षा का जायजा लेने के लिए आयोग की अध्यक्ष खुद डीटीसी बसों में बैठकर दिल्ली का सफर किया। रास्ते में उन्होंने दिल्ली सरकार द्वारा बस में महिलाओं की सुरक्षा के लिए तैनात मार्शल से भी बात की। इसके अलावा उन्होंने यात्रियों से भी बस में यात्रा के दौरान सुरक्षा के बारे में पूछा। साथ ही उन्होंने दिल्ली के सड़कों, थानों और रेलवे स्टेशनों पर रात में महिला सुरक्षा का जायजा लेने के लिए निकल जाती हैं।

अवैध शराब फैक्ट्री का भंडाफोड़

महिलाओं को सुरक्षित माहौल देने के लिए लड़ाई लड़ रही स्वाति को एक बड़ी सफलता मिली है। स्वाति ने रात में जहांगीरपुरी के डी ब्लॉक में थीं, जहां कुछ लोगों ने शिकायत की कि एक घर में अवैध रूप से शराब की बिक्री होती है। लोगों की शिकायत के बाद जब वह मौके पर पहुंचीं तो वहां लोग शराब पी भी रहे थे और बेच भी रहे थे। जिसके बाद उन्होंने मौके पर SHO को बुलाकर केस रजिस्टर करवाई और शराब को ज़ब्त करवाया।

स्वाति ने ट्वीट कर कहा कि “घरों में शराब तो ऐसे परोसी जा रही थी जैसे लाइसेंसी पब हो। हमारी लड़ाई किसी एक घर से नही, पूरे सिस्टम से है। ये समस्या पूरे जहांगीरपुरी की है। हर गली में शराब बिक रही है। क्रिमिनल लोगो ने आतंक फैला रखा है। में दिल्ली कमिश्नर से अनुरोध करती हूं कि इस समस्या का तुरंत समाधान निकालें।”

एक अन्य ट्वीट में स्वाति ने कहा कि, “हद्द हो गयी। जहांगीरपुरी के घरों में शराब बेची जा रही है। कई क्रेट भरके शराब पायी गई। SHO को मौके पे बुलाके पूछा कि ये सब कैसे चल रहा है? Police FIR तो कर रही है पर जो दोषी था वो भाग गया। लोगो ने बताया कि उसके 4 और ठिकाने हैं। पूरा गैंग है। पुलिस की नाक के नीचे सब चल रहा है।”

 

 

 

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here