बुलंदशहर हिंसा: वीडियो में हिंदुत्व बिग्रेड की खतरनाक ‘साजिश’ का हुआ खुलासा, कुंदन नाम के शख्स ने कथित तौर पर की ‘गायों की हत्या’

1
2

उत्तर प्रदेश के बुलंदशहर जिले के स्याना में गौकशी के शक में हुई भीड़ की हिंसा व बवाल में कथित संलिप्तता के लिए पुलिस ने मंगलवार (4 दिसंबर) को चार व्यक्तियों को गिरफ्तार किया। इसके अलावा करीब चार से पांच लोगों को हिरासत में भी लिया गया है। हालांकि, इस मामले में मुख्य आरोपी बजरंग दल का जिला संयोजक योगेश राज अभी भी फरार है। बता दें कि सोमवार (3 दिसंबर) को हुए इस हिंसा में स्याना के थाना प्रभारी सुबोध कुमार सिंह और एक 20 वर्षीय युवक सुमित कुमार की मौत हो गई थी।

बुलंदशहर

पुलिस ने बताया कि मुख्य आरोपी योगेश राज की तलाश सरगर्मी से जारी है। मारे गए युवक सुमित का पोस्टमार्टम हो चुका है। उसके शरीर में गोली पाई गई। पुलिस के मुताबिक उन्होंने स्वीकार किया कि हिंसा के दौरान पुलिस ने हवाई फायरिंग की थी। बुलंदशहर में हिंसा के दौरान स्याना इंस्पेक्टर सुबोध कुमार सिंह की हत्या के मामले में स्याना कोतवाली में उपनिरीक्षक सुभाष सिंह ने रिपोर्ट दर्ज कराई है।

इसमें बजरंग दल के जिला संयोजक योगेश राज, बीजेपी युवा स्याना के नगराध्यक्ष शिखर अग्रवाल और विहिप कार्यकर्ता उपेंद्र राघव को भी नामजद किया गया है। अभी तक तीनों की गिरफ्तारी नहीं हो सकी है।

बुलंदशहर हिंसा में ‘साजिश की बू’

इस बीच सोशल मीडिया पर एक सनसनीखेज वीडियो सामने आया है, जो तेजी से वायरल हो रहा है। वायरल वीडियो में साफ पता चलता है कि बुलंदशहर हिंसा में साजिश की बू आ रही है। टीवी पत्रकार विनोद कापड़ी ने अपने ट्विटर हैंडल पर एक वीडियो शेयर किया है। वीडियो में दिख रहा है कि प्रदर्शनकारी ट्रॉली में मौजूद किसी चीज की बात कर रहे हैं।

इस वीडियो में एक आवाज सुनाई दे रहा है जिसमें कोई कह रहा है कि कुंदन ने काटी है। शायद यह प्रदर्शनकारी गाय काटने की बात कर रहे हैं। हालांकि, ‘जनता का रिपोर्टर’ इस वीडियो की सच्चाई की पुष्टि नहीं करता है। वहीं, यह वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल होने के बाद विनोद कापड़ी ने ट्वीट कर कहा कि इसका पूरा वीडियो उन्होंने यूपी पुलिस के साथ शेयर कर दिया है।

बता दें कि बुलंदशहर जिले के स्याना इलाके में दक्षिणपंथी कार्यकर्ताओं समेत करीब 400 लोगों की भीड़ ने सोमवार को पुलिस के साथ मारपीट की। यह हिंसा पास के जंगल में गाय के कंकाल होने की जानकारी मिलने से दक्षिणपंथी समूहों के कार्यकर्ताओं के आक्रोशित होने के बाद भड़की। गुस्साई भीड़ ने इस दौरान पुलिस पर पथराव करते हुए पुलिस के कई वाहनों में आग लगा दी और उन पर गोलियां भी चलाईं। पुलिस ने जवाबी कार्रवाई की। इस हिंसा में स्याना के थाना प्रभारी सुबोध कुमार सिंह और 20 वर्षीय युवक सुमित कुमार की मौत हो गई थी।

पुलिस ने मंगलवार को कहा कि चार लोगों को गिरफ्तार किया गया है लेकिन मुख्य आरोपी, बजरंग दल का जिला संयोजक योगेश राज फरार है। उन्होंने बताया कि प्राथमिकी में 27 लोगों को नामजद किया गया है जबकि 50 से 60 अज्ञात लोगों के खिलाफ मामले दर्ज किए गए हैं।

अधिकारियों ने बताया कि 27 में से कम से चार व्यक्ति बजरंग दल जैसे दक्षिणपंथी संगठनों के कार्यकर्ता एवं पदाधिकारी हैं। इलाके में भारी संख्या में सुरक्षा बलों की तैनाती की गई है और स्थिति तनावपूर्ण बनी हुई है। गुस्साए परिवार अपने-अपने रिश्तेदार के लिए न्याय की मांग कर रहे हैं।

शहीद इंस्पेक्टर के पुत्र अभिषेक ने कहा कि उसके पिता उसे एक अच्छा नागरिक बनाना चाहते थे जो समाज में धर्म के नाम पर हिंसा को बढ़ावा न दे। उसने कहा ‘मेरे पिता ने हिंदू मुस्लिम विवाद के चलते अपनी जान गंवा दी, अब किसके पिता की बारी है?’ अभिषेक ने कहा कि आखिरी बार जब उसने अपने पिता से बात की थी तो उन्होंने उससे पूछा था कि क्या उसने खाना खा लिया और पढ़ाई कि या नहीं?’

वहीं, इंस्पेक्टर सुबोध कुमार सिंह की बहन सुनीता सिंह ने उनके लिए “शहीद” का दर्जा देने की मांग करते हुए आरोप लगाया कि उनके भाई की हत्या पुलिस के षडयंत्र से हुई है। सिंह उन पुलिसकर्मियों में से एक थे जिन्होंने 2015 में मोहम्मद अखलाक की भीड़ द्वारा पीट-पीट कर हत्या किए जाने की शुरुआती जांच की थी।

सुनीता सिंह ने संवाददाताओं से कहा, “मेरे भाई की हत्या पुलिस षडयंत्र के तहत की गई क्योंकि वह गौहत्या के एक मामले की जांच कर रहे थे उन्हें शहीद का दर्जा दिया जाना चाहिए और हमारे गृह जनपद में उनके नाम पर एक स्मारक बनाया जाना चाहिए।”

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ पर हमला बोलते हुए भावुक सुनीता सिंह ने कहा “गाय हमारी माता है, मैं इसको स्वीकार करती हूं। मेरे भाई ने उसके लिए अपनी जान दी। मुख्यमंत्री गाय गाय रटते रहते हैं, आखिर वह गौ रक्षा के लिये क्यों नहीं आते हैं?’

 

 

1 COMMENT

  1. लगेगा आग तो आएंगे घर कई जड़ में
    यहाँ सिर्फ हमारा माकन थोड़ी है,
    आज ये कही गयी शायरी सच होती दिख रही है और ऐसा है के हर जगह सिर्फ मुसलमानों को बदनाम करने के लिए ऐसे मुद्दों को उठाया जाता है जिससे की बस दंगा हो और कुछ नहीं और वोट बैंक की राजनीति की जा सके और ऐसे में बेगुनाह लोग मरे जाते है हमेशा जैसा की अभी बुलंद शहर में हुआ बेकसूर पालिसी अफसर मारा गया और एक बेकसूर मुसाफिर, ये आतंकी लोगो ने अपने मकसद के लिए बेचारे बेकसूर लोगो की जान लेली और खुद को बेकसूर बता रहा है,
    जिन 10 लोगो का नाम उस आतंकी ने लिया है उसमे 10 और 11 साल का लड़का है और बाकि है ही नहीं और जो है भी वो बेचारे दिल्ली में जॉब कर रहे है तो आखिर किया किसने जवाब है ें लोगो ने खुद ही किया ये सब ताकि मुसलमानों कप बदनाम किया जा सके और लोगो को भरका के वोट लिया जा सके,
    ये बीजेपी आरएसएस दोनों ही हमेशा हिन्दू मुस्लिम करती है और इसमें बेकसूर OBC SC ST और मुस्लिम को टारगेट करती है शूद्रों को मुसलमानों से लारा कर ये ब्राह्मण अपने सत्ता की रोटी सकती है और हैरानी की बात ये है के बहुत से लोग ये जानते हुए भी ुबके साथ है , प्लीज समझो भाई और इनके बेकवे में मत आओ !

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here