बुलंदशहर हिंसा: इंस्पेक्टर हत्या मामले में मुख्य आरोपियों में से एक भारतीय जनता युवा मोर्चा का नेता शिखर अग्रवाल गिरफ्तार

0

गत वर्ष तीन दिसंबर को उत्तर प्रदेश में बुलंदशहर के स्याना में भड़की हिंसा के दौरान मारे गए इंस्पेक्टर सुबोध कुमार सिंह की हत्या मामले में पुलिस ने एक और मुख्य आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस के मुताबिक, तीन दिसंबर को हुई बुलंदशहर हिंसा मामले में मुख्य आरोपियों में से एक भारतीय जनता युवा मोर्चा के सदस्य शिखर अग्रवाल को गिरफ्तार कर लिया गया है। शिखर को पुलिस ने देर रात हापुड़ से किया गिरफ्तार और अभी एसआईटी शिखर से पूछताछ कर रही है।

बताया जा रहा है कि शिखर अग्रवाल बीजेपी यूथ विंग से जुड़ा है और वह हिंसा के बाद से ही फरार चल रहा था। बुलंदशहर मामले में शिखर की गिरफ्तारी यूपी के हापुड़ से हुई है। शिखर के ऊपर हिंसा को भड़काने का आरोप है।
बताया जा रहा है कि शिखर अग्रवाल बीजेपी युवा मोर्चा का स्याना नगर अध्यक्ष है। इतना ही नहीं, स्याना- चिंगरावठी बवाल में वह पहले नामजद आरोपी है। शिखर को आज कोर्ट में किया जा सकता है।

एसपी सिटी अतुल श्रीवास्तव ने बताया कि शिखर अग्रवाल को हापुड़ से पुलिस टीम ने गिरफ्तार कर लिया है। शिखर अग्रवाल से पूछताछ की जा रही है। अभी भी हिंसा मामले में 50 आरोपी फरार चल रहे हैं। बताया जा रहा है कि सोमवार देर रात लगभग एक दर्जन ठिकानों पर छापेमारी की गई थी। पुलिस अब शिखर के घर की कुर्की करने की तैयारी कर रही थी उससे पहले ही उसे गिरफ्तार कर लिया गया।

गिरफ्तारी से पहले शिखर ने एक चैनल को इंटरव्यू दिया इसमें उसने कहा, ‘हमने इंस्पेक्टर की हत्या नहीं कराई बल्कि वह एक दुर्घटना थी। जब इंस्पेक्टर ने भीड़ को धमकी दी तो भीड़ उग्र हो गई। हमने और हमारे साथियों ने भीड़ को रोकने की कोशिश की। जब हिंदुत्व के नाम पर हमारी मां और बहनों का शोषण किया जाएगा। गायें काटी जाएंगी तो हम चुप नहीं बैठेंगे।’

बता दें कि बुलंदशहर के स्याना में तीन दिसंबर को हुई हिंसा में गोली लगने के कारण पुलिस अधिकारी सुबोध कुमार सिंह (44) शहीद हो गए थे। इस हिंसा में एक आम नागरिक सुमीत कुमार (20) की भी मौत हो गई थी। स्याना इलाके के चिगरावठी क्षेत्र में कथित गोकशी को लेकर उग्र भीड़ की हिंसा को लेकर स्याना पुलिस थाने में 27 नामजद और 50 से 60 अज्ञात लोगों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की गई थी।

पुलिस ने तीन जनवरी को बजरंग दल के स्थानीय नेता योगेश राज को गिरफ्तार किया था। वह भी मामले का एक मुख्य संदिग्ध था। योगेश राज की एक शिकायत पर पुलिस ने गोहत्या को लेकर अलग से एक प्राथमिकी दर्ज की थी। पुलिस ने बताया कि हिंसा के सिलसिले में अब तक 35 से अधिक लोगों को गिरफ्तार किया गया है।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here