उत्तर प्रदेश: दुर्गा मूर्ति विसर्जन के दौरान साम्प्रदायिक तनाव, भाजपा समर्थकों ने दिया धरना, 17 गिरफ्तार

0

उत्तर प्रदेश के गोंडा जिले में दुर्गा प्रतिमा विसर्जन के दौरान जुलूस पर कथित रूप से पथराव को लेकर साम्प्रदायिक तनाव पैदा हो गया। पुलिस ने इस मामले में 17 लोगों को गिरफ्तार किया है।

भाजपा सांसद बृजभूषण शरण सिंह ने पुलिस पर ‘एकतरफा कार्रवाई’ का आरोप लगाते हुए आज अपने समर्थकों के साथ शहर कोतवाली पर धरना शुरू कर दिया। घटना के विरोध में जिले के अनेक कस्बे और बाजार बंद हैं।

पुलिस अधीक्षक सुधीर कुमार सिंह ने यहां बताया कि कोतवाली नगर क्षेत्र में कल देर शाम दुर्गा प्रतिमा विसर्जन के दौरान कुछ लोगों ने माहौल खराब करने की नीयत से मार्ग जाम कर धरना-प्रदर्शन शुरू कर दिया था। उनके नहीं मानने पर पुलिस ने हल्का बल प्रयोग किया तो उन्होंने उस पर पथराव शुरू कर दिया। परिणामस्वरूप ड्यूटी पर तैनात पीएसी के उप सेनानायक बीबी चौरसिया समेत कई लोगों को चोटें आईं तथा एक मजिस्ट्रेट की गाड़ी भी क्षतिग्रस्त हो गई।

Also Read:  मुंबई: एल्फिंस्टन भगदड़ हादसे की जांच रिपोर्ट आई सामने, रेलवे ने भारी बारिश को बताया जिम्‍मेदार

mandir2_1476242243

भाषा की खबर के अनुसार, उन्होंने बताया कि इस मामले में भाजपा नेता महेश तिवारी समेत 17 व्यक्तियों को नामजद करते हुए सैकड़ो अज्ञात लोगों के विरुद्घ शांतिभंग व बलवा का मुकदमा दर्ज कराया गया है। अब तक 17 नामजद लोगों को गिरफ्तार किया गया है। नगर में अशांति फैलाने की कोशिश करने वालों पर पुलिस की पैनी नजर है। पुलिस ने दर्जनों अराजकतत्वों को चिन्हित किया है। इनके विरुद्घ भी सख्त कार्रवाई की जाएगी।

Also Read:  गुजरात: पटेल आरक्षण आंदोलन के दौरान मारे गये युवकों के परिवार से मिलेंगे केजरीवाल

इस बीच, कैसरगंज से भाजपा सांसद बृजभूषण शरण सिंह पुलिस द्वारा की गई कार्रवाई को एकतरफा करार देते हुए आज सुबह अपने समर्थकों के साथ कोतवाली परिसर के सामने धरने पर बैठ गये।

Also Read:  पेरिस के एफिल टॉवर पर लांच होगा फिल्म 'बेफिक्रे' का ट्रेलर

उन्होंने आरोप लगाया कि जिन लोगों ने शांतिपूर्वक दुर्गा प्रतिमा विसर्जन के दौरान गुजर रहे जुलूस पर अनायास पथराव किया, पुलिस उन्हे गिरफ्तार करने के बजाय जुलूस के साथ चल रहे लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर उन्हें गिरफ्तार करके एकतरफा कार्रवाई कर रही है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here