बिहार: नीतीश राज में ‘जेल ब्रेक’, बलात्कारी व हत्यारे सहित 34 कैदी जेल तोड़कर फरार

0

बिहार के मुंगेर जिले से एक हैरान करने वाली खबर आ रही है, जहां सुधार गृह से करीब तीन दर्जन बंदी रविवार (24 सितंबर) को जेल तोड़कर फरार हो गए। हालांकि, पुलिस के अनुसार सोमवार (25 सितंबर) को फरार हुए 34 बंदियों में से 12 बंदी वापस लौट आए हैं, बाकियों की तलाश की जा रही है। दरअसल, बिहार में नीतीश कुमार की पहचान सुशासन और कानून व्यवस्था के राज के रूप में जाना जाता है। ऐसे में जेल ब्रेक की ऐसी खबरों पर राजनीतिक हमला होना लाजमी है।समाचार एजेंसी एएफपी के अनुसार, बिहार के मुंगेर जिले में रविवार को सुधार गृह की खिड़की और दरवाजे तोड़कर करीब 34 बंदी फरार हो गए। फरार बंदियों में बलात्कारी, हत्यारे और किशोर बंदी शामिल हैं। बंदियों ने जेल की दीवार में छेद कर, लोहे की सलाखें और दरवाजे तोड़कर घटना का अंजाम दिया। पुलिस के मुताबिक, फरार बंदियों में से 12 बंदी कुछ घंटे बाद ही वापस लौट आए।

मुंगेर के पुलिस प्रमुख आशीष भारती ने मामले की जानकारी देते हुए बताया कि बंदियों ने लोहे की ग्रिल और दरवाजे को तोड़कर रात को 34 बंदी रात को फरार हो गए। उन्होंने बताया कि इनमें से कई बंदियों के खिलाफ हत्या, रेप और चोरी जैसे गंभीर मामलों में सुनवाई चल रही थी। फिलहाल पुलिस मामले की जांच कर रही है और बाकी के फरार अपराधियों की तलाश जारी है।

रिपोर्ट के मुताबिक, इस सुधार गृह में कुल 86 बंदी थे। आधिकारिक आंकड़ों के मुताबिक पूरे देश में कानून का उल्लंघन करने वाले 18 साल से कम उम्र के करीब 31 हजार किशोर इस तरह के सुधार गृह में रखे गए हैं। इनमें कोई सुरक्षाकर्मी नहीं होता है। बता दें कि इससे पहले भी वर्ष 2015 में बिहार में इसी तरह के सुधार गृह से करीब 100 कैदी फरार हो गए थे। गौरतलब है कि बिहार में इस समय बीजेपी-जेडीयू गठबंधन की सरकार है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here