केजरीवाल पर लगे आरोपों के बीच अन्ना हजारे बोले- भ्रष्टाचारी नेताओं को भी दी जाए फांसी

0

आम आदमी पार्टी(AAP) में जारी घमासान के बीच भ्रष्टाचार के खिलाफ देशव्यापी आंदोलन चलाने वाले समाजसेवी अन्ना हजारे ने कहा है कि मैं तो हमेशा ही बोलता हूं कि कोई भी मंत्री भ्रष्टाचार का दोषी पाया जाता है तो उसे फांसी दे देनी चाहिए। बता दें कि अन्ना का यह बयान ऐसे समय में आया है जब AAP से निलंबित कपिल मिश्रा ने दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल पर भ्रष्टाचार के आरोप लगाए हैं।

फाइल फोटो।

एक समाचार चैनल से बातचीत में अन्ना ने भ्रष्टाचारी नेताओं और मंत्रियों को फांसी देने की वकालत करते हुए कहा कि निर्भया के दोषियों की तरह देश के भ्रष्टाचारी नेता और मंत्रियों को भी फांसी की सजा देनी चाहिए। तभी भ्रष्टाचार खत्म हो सकता है।

कपिल मिश्रा द्वारा केजरीवाल पर लगाए गए आरोपों पर अन्ना ने कहा कि केजरीवाल भ्रष्टाचार के खिलाफ जंग लड़कर ही मुख्यमंत्री की कुर्सी तक पहुंचे हैं। उन्होंने कहा कि मेरा भरोसा तो तभी उठ गया था जब उनके मंत्रियों पर भ्रष्टाचार के आरोप लगना शुरू हुए थे।

अन्ना ने कहा कि वह पिछले 40 साल से भ्रष्टाचार के खिलाफ लड़ाई लड़ रहे हैं और केजरीवाल भी भ्रष्टाचार के खिलाफ उनकी लड़ाई में शामिल हुए थे। उन्होंने कहा कि केजरीवाल दिल्ली में भ्रष्टाचार के खिलाफ चलाए गए आंदोलन के चलते ही मुख्यमंत्री बने। आज, जब उन पर भ्रष्टाचार के आरोप लग रहे हैं, मैं बयान नहीं कर सकता कि मुझे कितना दुख हो रहा है।

हजारे ने कहा कि अब केजरीवाल बदल गए हैं। उनके मन में सियासत घुस चुका है। उन्होंने कहा कि मेरा विश्वास उठ चुका है। यदि उन पर लगाए गए आरोपों में दम नहीं है तो डर क्यों है? मेरे ऊपर भी आरोप लगाए थे, लेकिन मैं तो नहीं डरा। क्या केजरीवाल को पद छोड़ देना चाहिए? इसके जवाब में उन्होंने कहा कि आरोप साबित होने पर उन्हें ऐसा करना चाहिए।

क्या है पूरा मामला?

बता दें कि इससे पहले सोमवार(8 मई) को सीएम केजरीवाल पर भ्रष्टाचार के आरोप लगाने वाले पूर्व मंत्री कपिल मिश्रा को आम आदमी पार्टी(आप) की प्राथमिक सदस्यता से निलंबित कर दिया गया। सोमवार शाम को पार्टी की राजनीतिक मामलों की समिति (पीएसी) की बैठक में सर्वसम्मति से यह फैसला लिया गया।

इससे पहले आम आदमी पार्टी में कुमार विश्वास बनाम अरविंद केजरीवाल की लड़ाई ने शनिवार(6 मई) को उस वक्त नया मोड़ ले लिया, जब विश्वास के करीबी माने जा रहे मंत्री कपिल मिश्रा को पद से हटा दिया गया। मिश्रा की जगह कैलाश गहलोत को जल संसाधन मंत्री बनाया गया है, जबकि सीमापुरी के विधायक राजेंद्र पाल गौतम को भी मंत्री पद दिया गया है।

दिल्ली सरकार से हटाए जाने के एक दिन बाद रविवार(7 मई) को मिश्रा ने मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन पर भ्रष्टाचार के गंभीर आरोप लगाए। मिश्रा ने राजघाट पर कहा कि उन्होंने जैन को केजरीवाल के आधिकारिक आवास पर उन्हें 2 करोड़ रुपये नगद सौंपते हुए देखा। उनके मुताबिक जब उन्होंने इसके बारे में पूछा तो मुख्यमंत्री ने कहा कि राजनीति में कुछ चीजें बताई नहीं जा सकतीं।

मिश्रा ने कहा कि केजरीवाल में पूरा विश्वास होने की वजह से मैं चुप था। परसों मैंने देखा कि जैन केजरीवाल को 2 करोड़ रुपये नकद दे रहे हैं। केजरीवाल ने कहा कि राजनीति में कुछ चीजें होती हैं। केजरीवाल को जैन की ओर से इतनी बड़ी राशि देते हुए देखने के बाद मुझे सामने आना पड़ा।

साथ ही मिश्रा ने आरोप लगाया कि जैन ने मुझे बताया था कि उन्होंने केजरीवाल के रिश्तेदार का 50 करोड़ रुपये का भूमि सौदा कराया है। AAP विधायक ने कहा कि इस मुद्दे पर केजरीवाल से सवाल-जवाब करने के बाद उनको कैबिनेट से बर्खास्त कर दिया गया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here