लंबे समय बाद सार्वजनिक कार्यक्रम में एक साथ नजर आए मुलायम सिंह यादव और अखिलेश यादव

0

परिवार में तल्खी के कारण एक-दूसरे से दूर रहने के लंबे सिलसिले के बाद समाजवादी पार्टी (सपा) अध्यक्ष अखिलेश यादव और पार्टी संस्थापक उनके पिता मुलायम सिंह यादव को गुरुवार(12 अक्टूबर) को सार्वजनिक कार्यक्रम में एक साथ देखा गया। इस दौरान अखिलेश ने मुलायम के पैर छूकर आशीर्वाद भी लिया।

मौका था, डॉक्टर राम मनोहर लोहिया की पुण्यतिथि का। इस मौके पर अखिलेश और मुलायम लखनऊ के लोहिया पार्क में लोहिया को श्रद्धांजलि देने पहुंचे थे। बाद में दोनों ने मीडिया फोटोग्राफरों से एक साथ खड़े होकर फोटो भी खिंचवायीं।

Also Read:  पुलिस को 'बाहुबली' दिखाकर फरार हुईं हत्या की आरोपी साध्वी जयश्री गिरि

गत 25 अगस्त को सपा से अलग होने की नौबत को टालने वाले मुलायम और उनके बेटे अखिलेश के रिश्तों में आयी मुलायमियत का ही शायद नतीजा था कि सपा अध्यक्ष ने सार्वजनिक रूप से अपने पिता के पैर छुए, और दावा किया कि उन पर उनके पिता का आशीर्वाद बना हुआ है।

इसके पूर्व, मुलायम ने अपने छोटे भाई शिवपाल सिंह यादव के साथ लोहिया ट्रस्ट कार्यालय जाकर भी डाक्टर लोहिया को श्रद्धांजलि दी। बाद में, पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश ने सपा कार्यालय में संवाददाताओं से कहा कि बीजेपी उनकी सरकार द्वारा शुरू की गयी परियोजनाओं पर अपना ठप्पा लगाकर उनका उद्घाटन कर रही है।

Also Read:  सुप्रीम कोर्ट ने रद्द की शहाबुद्दीन की ज़मानत, फिर जाना होगा जेल

मुलायम के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने कहा कि अगर कोई पिता अपने बेटे की गलतियों को नजरअंदाज करता है, तो बेटा गुमराह हो जाता है। हर परिवार में वैचारिक मतभेद होता है। हालांकि अखिलेश ने इस बारे में विस्तार से कुछ नहीं कहा।

सपा अध्यक्ष ने पार्टी कार्यकर्ताओं का वर्ष 2019 के लोकसभा चुनाव की तैयारियों में जुटने का आह्वान करते हुए कहा कि हमारे पास अब खोने को कुछ नहीं है। हम अब सिर्फ हासिल ही करेंगे। प्रदेश की जनता सपा को वापस लाने के मौके का इंतजार कर रही है।

Also Read:  कैलेंडर में महात्मा गांधी की जगह पीएम मोदी की तस्वीर छपने पर खादी ग्रामोद्योग में काम करने वालों का फूटा गुस्सा

उन्होंने कहा कि हमें वर्ष 2022 के उार प्रदेश विधानसभा चुनाव के लिये भी तैयारी शुरू करनी होगी। राज्य की वर्तमान भाजपा सरकार विकास का कोई काम नहीं कर रही है और लोगों को अब यह मालूम हो चुका है। अखिलेश ने बिना तैयारी के जीएसटी लागू करके व्यापारी समुदाय के लिये दुारियां खड़ी करने का आरोप लगाते हुए केंद्र पर हमला भी किया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here