मुख्य सचिव से बदसलूकी मामला: AAP विधायक अमानतुल्ला खान ने जामिया नगर थाने में किया सरेंडर

0

मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के आवास पर सोमवार (19 फरवरी) रात दिल्ली सरकार के मुख्य सचिव अंशु प्रकाश के साथ हुई कथित बदसलूकी और मारपीट के मामले में आरोपी आम आदमी पार्टी (AAP) के विधायक अमानतुल्ला खान ने बुधवार (21 फरवरी) को बुधवार को दिल्ली के जामिया नगर थाने पहुंचकर सरेंडर कर दिया। बता दें कि दिल्ली के मुख्य सचिव अंशु प्रकाश की शिकायत पर दर्ज एफआईआर में अमानतुल्ला मुख्य आरोपी हैं।

फाइल फोटो: The Indian Express

दिल्ली के मुख्य सचिव अंशु प्रकाश ने आरोप लगाया है कि सोमवार देर रात मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के आवास पर बैठक के दौरान ‘आप’ विधायकों ने उनके साथ कथित तौर पर हाथापाई की। मुख्य सचिव ने उपराज्यपाल से शिकायत की है और प्राथमिकी भी दर्ज कराई है।

वहीं विधायकों का आरोप हैकि मुख्य सचिव ने उनके साथ र्दुव्‍यवहार किया। इससे पहले मंगलवार देर रात मुख्य सचिव के साथ कथित हाथापाई के एक अन्य आरोपी विधायक प्रकाश जारवाल को दिल्ली पुलिस ने हिरासत में ले लिया और बुधवार को पूछताछ के बाद उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया।

AAP विधायक प्रकाश जारवाल गिरफ्तार

वहीं, मुख्यमंत्री केजरीवाल के आवास पर सोमवार (19 फरवरी) रात दिल्ली सरकार के मुख्य सचिव अंशु प्रकाश के साथ हुई कथित बदसलूकी और मारपीट के मामले में आम आदमी पार्टी (AAP) के विधायक प्रकाश जारवाल को दिल्ली पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। मुख्य सचिव अंशू प्रकाश ने अपने साथ बदसलूकी की शिकायत दर्ज कराई थी, जिसके बाद दिल्ली पुलिस ने मंगलवार (20 फरवरी) देर रात को बताया था कि प्रकाश जारवाल को उनके देवली स्थित आवास से हिरासत में ले लिया गया है।

लेकिन NDTV की रिपोर्ट के मुताबिक, मुख्य सचिव के साथ कथित तौर पर मारपीट करने वाले आप के विधायक प्रकाश जरवाल को दिल्ली पुलिस ने हिरासत में लेने के बाद बुधवार (21 फरवरी) को गिरफ्तार कर लिया है। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक विधायक प्रकाश जारवाल के खिलाफ आईपीसी के सेक्शन 186, 353, 323, 342, 504, 506 (2) और 120 बी व 34 के तहत केस दर्ज किया गया था।

बता दें कि दिल्ली के मुख्य सचिव अंशु प्रकाश ने आरोप लगाया है कि मुख्यमंत्री के आवास पर एक बैठक के दौरान आप विधायक अमानतुल्ला खान और अन्य ने उन पर हमला किया। इन विधायकों में जारवाल का नाम भी बताया जा रहा है।वहीं, मुख्य सचिव अंशु प्रकाश के साथ हुई बदसलूकी और हाथापाई के मामले में AAP के विधायकों के साथ अब मुख्यमंत्री केजरीवाल की भी मुसीबत बढ़ती दिखाई दे रही है।

बुधवार को मारपीट के इस मामले में दिल्ली पुलिस ने केजरीवाल के सलाहकार वीके जैन को हिरासत में ले लिया। हालांकि वीके जैन से पूछताछ के बाद दिल्ली पुलिस ने उन्हें रिहा कर दिया। आरोेप है कि वीके जैन ही वह शख्स हैं जिन्होंने मुख्य सचिव अंशु प्रकाश को केजरीवाल के आवास पर बैठक के लिए बुलाया था। वहीं, बुधवार सुबह इस मुद्दे पर पत्रकारों ने केजरीवाल से बातचीत की कोशिश की, लेकिन वह बिना सवालों का जवाब दिए निकल गए।

AAP विधायकों का हमला

डीसीपी उत्तरी को दी शिकायत में मुख्य सचिव ने कहा है कि मुख्यमंत्री के सलाहकार वीके जैन ने फोन कर सोमवार रात 12 बजे बैठक के लिए बुलाया। बताया गया कि मुख्यमंत्री प्रचार के मामले में आ रही परेशानियों पर चर्चा करना चाहते हैं। मैं पहुंचा तो मुख्यमंत्री ने मुझे निर्देश दिया कि मैं टेलीविजन विज्ञापन जारी होने में देरी का कारण विधायकों से स्पष्ट करूं। मैंने समझाया कि अधिकारी सुप्रीम कोर्ट के दिशानिर्देश से बंधे हुए हैं।

मुख्य सचिव के मुताबिक, इस पर आप विधायक चिल्लाने लगे। तभी एक विधायक ने हमला कर दिया। विधायकों ने कहा कि प्रचार मुहिम को मंजूरी दो अन्यथा यहां से जाने नहीं देंगे। वहीं ‘आप’ के प्रवक्ता सौरभ भारद्वाज ने कहा कि राशन के मुद्दे पर विधायक मुख्य सचिव से जवाब चाह रहे थे। लेकिन मुख्य सचिव ने कहा कि उनकी जवाबदेही विधायकों के प्रति नहीं बल्कि उपराज्यपाल के प्रति है। मुख्य सचिव के साथ मारपीट का आरोप गलत है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here