सोमनाथ भारती मामले पर आम आदमी पार्टी की आगरा इकाई कर सकती है दिल्ली पुलिस पर एफ आई आर

0

सोमनाथ भारती और उनकी पत्नी का विवादित मामला लगातार एक नया मोड़ लेता जा रहा है। दिल्ली पुलिस ने भारती की खोज में कल आगरा में छापा मारा था क्यूंकि पुलिस को AAP नेता के घर पर रुके होने की आशंका थी।

दिल्ली पुलिस की इस कार्रवाई पर बवाल खड़ा हो गया है और आप की आगरा इकाई का आरोप है की पुलिस उनकी आफिस में ऐसे आई जैसे ‘कोई चोर किसी के घर में चोरी करने आता है।’

आम आदमी पार्टी की आगरा इकाई ने अब इस मसले पर दिल्ली पुलिस के खिलाफ ऍफ़ आई आर दर्ज करने का फैसला किया है।

Also Read:  अब भारत स्थित अमेरिकन सेंटर में लैपटॉप, टैबलेट और आईपैड ले जाने पर रोक

एक कार्यकरता के अनुसार, “रात के 3 बजे आप के कार्यालय में कुछ पुलिस वाले बगैर यूनिफार्म के पीछे के दरवाजे से घुसे क्यूंकि उन्हें यह आशंका थी की भारती यही पर हैं, वहां पर सोमनाथ के नहीं मिलने पर पुलिस रात में ही ‘आप’ नेताओ के घर जाने लगी। पुलिस से बार बार कोई कागज या अपना आई कार्ड दिखाने के लिए कार्यकर्ताओ ने बोला लेकिन किसी ने भी दिखाया नही। ऐसी स्थिति में स्थानीय पुलिस से शिकायत की गई और उत्तर प्रदेश पुलिस के आने पर दिल्ली पुलिस वहा से गई।’

Also Read:  अमेरिका: महिला बास्केटबॉल खिलाड़ी को हिजाब पहनकर खेलने की नही मिली इजाजत

ख़बरों के अनुसार उप्र पुलिस दोनों पक्षों को थाने लेकर चली गई और वहा मामला शांत हुआ।

आप की आगरा इकाई का कहना है कि दिल्ली पुलिस और आप कार्यकर्ताओ में देर तक कहा सुनी हुयी और आखिरी में जबतक उप्र पुलिस नही आयी तबतक मामला शांत नही हुआ।

भारती को मंगलवार के दिन उच्च न्यायालय से दो दिन की अग्रिम ज़मानत मिल गई थी। अगली सुनवाई 17 सितम्बर को है।

उधर पार्टी सूत्रों कि भारती आज मीडिया के सामने अपना पक्ष रख सकते हैं।

भारती ने कल रात दिल्ली पुलिस के समक्ष हाज़िर हो कर जांच में उनका साथ देने की पेशकश की थी।

Also Read:  VIDEO: CPM नेता सीताराम येचुरी से हाथापाई, हमलावरों ने दफ्तर में की नारेबाजी, RSS पर लगाया आरोप

बुधवार की सुबह दिल्ली पुलिस के कमिश्नर बी एस बस्सी ने पत्रकारों से बात करते हुए भारती के उन आरोपों को खारिज कर दिया था जिन में आप के नेता ने पुलिस पर राजनितिक दबाव में काम करने का इलज़ाम लगाया था. बस्सी ने कहा कि दिल्ली पुलिस उनके और उनकी पत्नी के बीच मतभेद को दूर करने की पूरी कोशिश की थी और क़ानूनी कार्रवाई की ज़रुरत उस वक़्त पड़ी जब बात चीत से इस मसले को नहीं सुलझाया जा सका।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here