तानाशाही और अंहकार से भरा मोदी का नोट बंदी का फैसला, मेहनतकशों को पीड़ा पहुंचा रहा हैः मायावती

0

एक बार मायावती ने पीएम मोदी पर नोटबंदी के फैसले पर हमला बोलेत हुए तीखा प्रहार किया है। बता दे कि ममता बनर्जी ने भी पीएम मोदी के नोटबंदी के फैसले को राष्ट्रीय आपदा बताया था। देशभर में पीएम मोदी के इस फैसले की कड़ी आलोचना शुरू हो गई है।

लम्बी-लम्बी कतारों में गरिबों को ना सिर्फ परेशानी हो रही है बल्कि उनकी दैनिक मजदूरी भी इससे प्रभावित हो रही है।

भाषा की खबर के अनुसार, बसपा सुप्रीमो मायावती ने 500 और 1000 रुपये के नोट बंद करने के केन्द्र सरकार के कदम को तानाशाही और अहंकार से भरा बताते हुए आज कहा कि देश के करोड़ों गरीबों और मेहनतकशों को इससे पीड़ा हो रही है और जब सरकार इस पीड़ा को समझ न पाए तो उसके बुरे दिन दूर नहीं
मायावती ने एक बयान में कहा, ‘‘भाजपा के इस तानाशाही और अहंकारी व्यवहार की सजा जनता उसे जरूर देगी यह आर्थिक आपातकाल लगाने वाला फैसला है इससे देश के करोड़ों गरीबों और मेहनतकशों को पीड़ा हो रही है उनकी पीड़ा को अपना समझकर बसपा ने केन्द्र के फैसले पर कल कड़ी प्रतिक्रिया दी थी’’ उन्होंने कहा, ‘‘जब देश की शासक पार्टी देशवासियों और आम नागरिकों की पीड़ा नहीं समझ पाए तो ऐसी सरकार के बुरे दिन दूर नहीं हैं यह जनता में आम चर्चा भी है’’
भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने इस फैसले को बसपा के लिए आर्थिक आपातकाल करार दिया था, जिस पर मायावती ने कहा कि शाह को शायद मालूम नहीं है कि जमीन से जुड़े बसपा के छोटे बड़े कार्यकर्ताओं ने कठिन से कठिन समय में भी अपनी पार्टी को आर्थिक तकलीफ नहीं होने दी है और वे पूरे तन, मन, धन से बसपा मूवमेंट (आंदोलन) को सहयोग करते रहे हैं, जिससे पूरा देश वाकिफ है।
Previous article‘H-1B visa ‘potential area of conflict’ between Indo-US under Donald Trump’
Next articleभ्रामक विज्ञापन : जेल की सजा नहीं, लेकिन सेलिब्रिटियों पर प्रतिबंध लगाने की सिफारिश