बीजेपी में पीएम मोदी और अमित शाह के आलोचक वरुण गांधी और आडवानी यूपी में स्टार प्रचारकों की लिस्ट से बाहर

0

भाजपा सांसद वरुण गांधी और उत्तर प्रदेश इकाई के पूर्व अध्यक्ष विनय कटियार को स्टार प्रचारकों की सूची से पार्टी ने विधानसभा के चुनावी अभियान प्रचार से हटा दिया है। बीजेपी ने यूपी चुनावों के पहले दो चरणों के लिए अपने स्टार प्रचारकों की लिस्ट जारी कर दी है।

बीजेपी के दिग्गज नाम और वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवाणी और मुरली मनोहर जोशी जो लोकसभा चुनावों में पार्टी का चेहरा और स्टार प्रचारक थे इस बार जारी 40 लोगों की सूची में शामिल नहीं किए गए है। जबकि इनकी जगह लिस्‍ट में पीएम मोदी, अध्यक्ष अमित शाह, राजनाथ सिंह, योगी आदित्यनाथ, उमा भारती, संजीव बालियान और कलराज मिश्र को विशेष रूप से 40 लोगों की सूची में बतौर स्टार प्रचारक शामिल किया गया है।

मेनका गांधी को भी स्टार प्रचारकों की लिस्ट में शामिल किया गया है जबकि उनके बेटे वरुण गांधी को इस बार इस सूची से बाहर कर दिया गया है। वरूण के इस सूची से बाहर होने के पीछे 2014 के लोकसभा चुनावी अभियान में कोलकाता रैली में भीड़ का न होना भी प्रमुख वजह हो सकती है।

एक पत्रकार से बातचीत करते हुए वरूण ने बताया था कि 2014 में लोकसभा चुनावों के दौरान कोलकाता की रैली में 15 लाख लोगों के आने की सम्भावना थी लेकिन 50 हजार से भी कम लोग उस रैली में शामिल हुए थे।

बीजेपी की बिहार में शर्मनाक हार की निंदा करते हुए आडवाणी और जोशी जैसे दिग्गज नेताओं ने पार्टी की हार कि जिम्मेदारी और जवाबदेही पर प्रश्न उठाया था। जिसे पार्टी में एक बड़े विद्रोह के तौर पर देखा गया था और इस कदम को पार्टी के अंदर पीएम मोदी के खिलाफ सबसे बड़ा विद्रोह माना गया था।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक,  इसके अलावा रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर का नाम भी सूची में शामिल नहीं किया गया है। पूर्व में खबर थी कि सर्जिकल स्ट्राइक को बड़ा मुद्दा बनाया जाएगा और पर्रिकर प्रचार का बड़ा चेहरा होंगे लेकिन लगता है पार्टी ने इरादा बदल दिया है।

स्टार प्रचारकों के अन्य प्रमुख नामों में नितिन गडकरी, अरुण जेटली, वेंकैया नायडू, स्मृति ईरानी, उमा भारती, कलराज मिश्र, मेनका गांधी, राम विलास पासवान, मुख्तार अब्बास नकवी, पीयूष गोयल, महेश शर्मा, संजीव बालियान, वी के सिंह, साध्वी निरंजन ज्योति, संतोष गंगवार, भाजपा उपाध्यक्ष एवं उत्तर प्रदेश प्रभारी ओम प्रकाश माथुर, प्रदेश अध्यक्ष केशव प्रसाद मौर्य, मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान, राजस्थान की मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे सिंधिया, गोरखपुर से लोकसभा सांसद योगी आदित्यनाथ, मथुरा से सांसद हेमामालिनी, शिव प्रकाश, सुनील बंसल, राजवीर सिंह, कौशल किशोर, मनोज तिवारी, स्वामी प्रसाद मौर्य, एसपी सिंह बघेल, हुकुम सिंह भी शामिल हैं।

 

Previous articleHRD Ministry rejects RTI plea for sharing report on Rohith Vemula’s death
Next articleAAP govt orders special audit of Delhi Agricultural Marketing Board