ज़ी मीडिया की बढ़ सकती है मुश्किलें, प्रसार भारती ने BARC से 9 क्षेत्रीय चैनलों के खिलाफ कार्रवाई करने के लिए लिखा पत्र

0

प्रसार भारती ने ब्रॉडकास्ट ऑडियंस रिसर्च काउंसिल (BARC) से ज़ी मीडिया के खिलाफ कार्रवाई करने के लिए कहा है, क्योंकि समूह के नौ टीवी चैनलों को धोखाधड़ी से अपने चैनलों को मुफ्त में प्रसारित करने के लिए पाया गया।

ज़ी मीडिया

प्रसार भारती ने BARC को लिखे अपने पत्र में कहा, “यह BARC इंडिया द्वारा फ्री प्लेटफॉर्म (फ्री डिश और टेरेस्ट्रियल) के संबंध में जारी किए गए डेटा के संदर्भ में है।” पत्र में कहा गया है कि, “इस संबंध में, कृपया मेसर्स TV18 ब्रॉडकास्ट लिमिटेड से दिनांक 29.03.2022 को एक ईमेल के साथ संलग्न देखें।”

प्रसार भारती ने कहा कि ज़ी मध्य प्रदेश/छत्तीसगढ़, ज़ी बिहार/झारखंड, ज़ी उत्तर प्रदेश/उत्तराखंड, ज़ी सलाम, ज़ी राजस्थान, ज़ी 24 कलाक, ज़ी पंजाब/हरियाणा/हिमाचल प्रदेश, ज़ी 24 तास और ज़ी ओडिशा जैसे नौ ज़ी टीवी चैनल हैं। ये फ्री टू एयर नियमों का उल्लंघन कर रहे हैं।

प्रसार भारती के पत्र में कहा, “यह बताना है कि इन 9 टीवी चैनलों को प्रसार भारती द्वारा डीडी फ्री डिश पर स्लॉट आवंटित नहीं किए गए हैं और वे डीडी फ्री डिश चैनलों के बुके का हिस्सा नहीं हैं।”

प्रसार भारती ने अपने पत्र में BARC से ज़ी मीडिया से जुड़े नौ टीवी चैनलों के खिलाफ ‘आवश्यक कार्रवाई’ करने को कहा।

बता दें कि, मुंबई पुलिस द्वारा टीआरपी घोटाले के आरोपों के मद्देनजर TRP को निलंबित करने के बाद BARC ने हाल ही में दर्शकों का डेटा जारी करना फिर से शुरू कर दिया है।

रिपोर्ट्स के मुताबिक, जी मीडिया ने डीडी फ्री डिश पर सिर्फ दो स्लॉट के लिए सरकार को भुगतान किया है। अधिक चैनल प्रसारित करने से सरकार को राजस्व का नुकसान होता है।

इससे पहले कई प्रतिद्वंद्वी चैनलों ने ज़ी मीडिया के अनुचित व्यवहार को उजागर करते हुए सरकार को पत्र लिखा था।

[Please join our Telegram group to stay up to date about news items published by Janta Ka Reporter]

Previous articleमस्जिद से लाउडस्पीकर हटाने वाले राज ठाकरे के बयान के बाद मनसे के मुस्लिम नेता माजिद शेख ने पार्टी से दिया इस्तीफा
Next articleलखनऊ सुपर जायंट्स के खिलाफ 152.95 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से गेंदबाजी कर सोशल मीडिया पर छाए उमरान मलिक