ओडिशा पुलिस ने पुलिसकर्मियों के हाथों बलात्कार की शिकार हुई किशोरी से मांगी माफी, एक गिरफ्तार

0

ओडिशा पुलिस ने सुंदरगढ़ जिले में एक थाने के प्रभारी निरीक्षक समेत पुलिसकर्मियों के हाथों कथित रूप से बलात्कार की शिकार हुई एक नाबालिग लड़की से बुधवार (1 जुलाई) को माफी मांगी। पुलिस महानिदेशक अभय ने बताया कि प्रभारी निरीक्षक को गिरफ्तार कर लिया गया है, वह निकटवर्ती आंगुल जिले में वन्यक्षेत्र में छिपा था।

बलात्कार

पुलिस महानिदेशक ने कहा, ‘‘अपराध शाखा की टीम ने अच्छा काम किया।’’ उससे पहले दिन में पुलिस महानिदेशक ने वीरमित्रपुर थाने के प्रभारी निरीक्षक को बर्खास्त कर दिया। अपराध शाखा को 13 वर्षीय लड़की द्वारा लगाए गए आरोपों में प्रथमदृष्टया सबूत मिले थे। पुलिस महानिदेशक ने मंगलवार को अपराध शाखा को इस घटना की जांच करने का आदेश दिया था। पुलिस ने बताया कि नाबालिग लड़की से बलात्कार और उसके गर्भपात में निरीक्षक की कथित संलिप्तता को लेकर 26 जून को उसे निलंबित कर दिया गया था।

पुलिस महानिदेशक ने ट्वीट किया, ‘‘उसका आचरण शर्मनाक है। किशोरी से हम क्षमायाचना करते हैं।’’ डीजीपी ने मंगलवार को इस घटना की अपराध शाखा जांच का आदेश दिया था। अपराध शाखा की चार सदस्यीय टीम ने जांच के तहत सुंदरगढ़ जिले के बीरमित्रपुर और रायबोगा पुलिस स्टेशनों का दौरा किया।

पुलिस के अनुसार, निरीक्षक और कुछ अन्य पुलिसकर्मियों पर तीन महीने से अधिक समय तक इस लड़की के साथ बलात्कार करने का आरोप है जबकि एक सरकारी डॉक्टर पर वीरमित्रपुर सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में 15 जून को लड़की का गर्भपात करने का आरोप है। सुंदरगढ़ के जिला बाल सुरक्षा अधिकारी द्वारा दर्ज कराई गई शिकायत के अनुसार, यह लड़की 25 मार्च को वीरमित्रपुर में एक मेला देखने गयी थी लेकिन लॉकडाउन के चलते यह कार्यक्रम रद्द कर दिया गया था। वह लड़की घर नहीं लौट पायी और गश्त कर रही एक पुलिस टीम को वह एक बस स्टैंड के पास भटकती मिली।

शिकायत के अनुसार, उसे थाने लाया गया जहां निरीक्षक ने कथित रूप से उसके साथ बलात्कार किया। उसे अगली सुबह छोड़ दिया गया। उसके बाद उसे अक्सर थाने बुलाया जाता था और निरीक्षक समेत कुछ पुलिसकर्मी उसके साथ दुष्कर्म करते थे। लड़की गर्भवती हो गयी और फिर उसका गर्भपात किया गया। प्राथमिकी में निरीक्षक, डॉक्टर और लड़की के सौतेले पिता समेत छह व्यक्तियों को आरोपी के रूप में नामजद किया गया है।

पुलिस महानिदेशक ने कहा, ‘‘मैंने अपराध शााखा की जांच टीम से इस जघन्य अपराध में शामिल लोगों के खिलाफ कार्रवाई करने को कहा है। कड़ी कार्रवाई की जाएगी।’’ (इंपुट: भाषा के साथ)

Previous articleअभिनेत्री व TMC सांसद नुसरत जहां ने टिक टॉक बैन पर उठाए सवाल, कहा- बिना सोचे समझे लिया गया फैसला
Next articleमध्य प्रदेश के पूर्व सीएम कमलनाथ ने BJP के 2 नेताओं को भेजा कानूनी नोटिस