NCB अधिकारी समीर वानखेड़े की मुश्किलें बढ़ीं, बार लाइसेंस के लिए गलत जानकारी देने पर महाराष्ट्र आबकारी विभाग ने भेजा नोटिस

मुंबई क्रूज ड्रग्‍स मामले के बाद से मीडिया की सुर्खियों में आए नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो (NCB) के विवादित अधिकारी समीर वानखेड़े की मुश्किलें बढ़ती नजर आ रही है। महाराष्ट्र आबकारी विभाग की ठाणे इकाई ने समीर वानखेड़े को नोटिस जारी किया है।

समीर वानखेड़े
फाइल फोटो

ठाणे कलेक्टर कार्यालय की ओर से मिली जानकारी के मुताबिक, महाराष्ट्र आबकारी विभाग की ठाणे इकाई ने 1997 में लाइसेंस के लिए अपने आवेदन में गलत जानकारी प्रस्तुत करने के लिए समीर वानखेड़े के नवी मुंबई स्थित बार को कारण बताओ नोटिस जारी किया है। समाचार एजेंसी ANI के मुताबिक, ठाणे कलेक्टर कार्यालय की ओर से यह जानकारी मिली है।

बता दें कि, आज वानखेड़े को मुंबई जिला ‘जाति प्रमाणपत्र’ जांच समिति के सामने भी पेश होना है। यहां उन्‍हें खुद के खिलाफ लगे आरोपों को लेकर जवाब देना होगा होगा और जाति प्रमाण पत्र को लेकर सच बताना होगा।

बॉलीवुड के मेगास्टार शाहरुख खान के बेटे आर्यन खान से जुड़े मुंबई क्रूज ड्रग्स पार्टी पर की गई कार्रवाइयों की वजह से समीर वानखेड़े का नाम चर्चा में आया था। इस कार्रवाई में आर्यन खान को गिरफ्तार किया गया था। इसके बाद आर्यन खान को करीब एक महीने तक जेल में रहना पड़ा।

एनसीपी नेता और मंत्री नवाब मलिक ने आरोप लगाया था कि समीर वानखेड़े ने वसूली के लिए शाहरुख खान के बेटे को टारगेट किया है और असली ड्रग्स माफिया को क्रूज में पकड़ा ही नहीं गया। इसके साथ ही मलिक ने वानखेड़े पर कई गंभीर आरोप भी लगाए है।

बता दें कि, नवाब मलिक ने समीर वानखेड़े पर अपना ‘‘वास्तविक धर्म- इस्लाम’’ छिपाने और फर्जी जाति प्रमाण पत्र के जरिए केंद्र सरकार की नौकरी हासिल करने का आरोप लगाया था। मलिक ने कहा था समीर वानखेड़े जन्म से मुस्लिम हैं लेकिन आरक्षित श्रेणी के तहत नौकरी पाने के लिए जाति प्रमाण पत्र में फर्जीवाड़ा किया है। हालांकि, वानखेड़े आरोपों से इनकार करते रहे हैं।

[Please join our Telegram group to stay up to date about news items published by Janta Ka Reporter]

Leave a Comment