24 घंटे में ही बयान से पलटी UP पुलिस, कहा- आतंकी सैफुल्ला का ISIS से कोई सीधा संबंध नहीं

1

उत्तर प्रदेश पुलिस पकड़े गए युवकों और मुठभेड़ में मारे गए सैफुल्ला के आईएसआईएस आतंकी होने के अपने दावे से चौबीस घंटे में ही पलट गई। ऐसा तब हुआ जबकि पुलिस मंगलवार(7 मार्च) की रात सैफुल्ला को खुरासान मॉड्यूल का सदस्य बता रही थी। उत्तर प्रदेश के एडीजी (कानून और व्यवस्था) दलजीत सिंह चौधरी ने बुधवार(8 मार्च) को खुलासा किया है कि लखनऊ में मारे गए सैफुल्ला और उसके साथियों का आईएस से कोई सीधा संपर्क नहीं था।

उन्होंने कहा कि आरोपी खुद ही सोशल मीडिया और इंटरनेट के माध्यम से आईएस से प्रभावित हुए थे। वे आईएस के खुरासान मॉड्यूल के तौर पर अपनी पहचान बनाना चाहते थे। ऐसा बयान तब आया है जबकि खुद यूपी एटीएस देर रात तक सैफुल्ला के आईएस का कट्टर आतंकी होने का दावा कर रही थी।

सैफुल्ला के तमाम लिंक, नेटवर्क होने और उससे आईएस का साहित्य बरामद होने की बात कही गई थी। यही नहीं, मध्य प्रदेश पुलिस ने भोपाल में गिरफ्तार किए गए आतंकियों के आईएस से रिश्ते होने की बात कही। दावा किया गया कि सैफुल्ला भी उसी गिरोह का सदस्य है।

यहां तक कि पुलिस ने दावा किया कि आतंकियों ने उज्जैन में ट्रेन में बम रखने के बाद उसकी फोटो को सीरिया में आईएस के आकाओं को भेजा था। इसके उलट यूपी पुलिस का दावा है कि सैफुल्ला के आईएस से संबंध होने के कोई सुबूत नहीं मिले हैं।

जबकि पुलिस ने घटनास्थल से विस्फोटक, लैपटॉप में बम बनाने की विधि की पूरी जानकारी दर्ज है। साथ ही आईएस का झंडा भी बरामद हुआ। यही नहीं, सैफुल्ला के घर से वाकी-टाकी और बम बनाने के र्छे बरामद किए गए।

 

Previous articleमतदान समाप्ती के बाद अब चुनावी नतीजों का बेसब्री से इंतज़ार
Next articleCourt orders auction of seized assets of Sri Bhumi