केसीआर ने राहुल गांधी को बताया देश का सबसे बड़ा ‘मसखरा’, कांग्रेस ने किया जोरदार पलटवार

0

तेलंगाना के कार्यवाहक मुख्यमंत्री और तेलंगाना राष्ट्र समिति (टीआरएस) के प्रमुख के. चंद्रशेखर राव (केसीआर) ने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी पर बड़ा हमला बोला है। तेलंगाना विधानसभा को भंग किए जाने की सिफारिश करने के तुरंत बाद राव ने गुरुवार (6 सितंबर) कांग्रेस पर तीखा हमला बोलते हुए पार्टी प्रमुख राहुल गांधी को देश के ‘सबसे बड़े मसखरे’ करार दिया।

केसीआर ने कांग्रेस को तेलंगाना का ‘सबसे बड़ा दुश्मन’ करार दिया और टीआरएस सरकार के खिलाफ ‘आधारहीन और अर्थहीन’ आरोप लगाने के लिए उसकी आलोचना की। केसीआर ने एक संवाददाता सम्मेलन में कहा, ‘पूरे देश ने देखा कि कैसे उन्होंने संसद में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को गले लगाया और आंख मारी।’

राहुल गांधी तेलंगाना में बड़े पैमाने पर अभियान शुरू करने वाले हैं। बावत पूछे जाने पर टीआरएस प्रमुख ने कहा, ‘अगर वह आएंगे तो हमारे लिए चुनाव जीतना आसान हो जाएगा।’ केसीआर ने कहा, ‘राहुल को कांग्रेस का दिल्ली सम्राज्य विरासत में मिला है और इसलिए मैं तेलंगाना के लोगों से अपील कर रहा हूं कि वे दिल्ली का गुलाम नहीं बनें।’ उन्होंने कहा, ‘तेलंगाना का फैसला तेलंगाना को ही करना चाहिए।’

कांग्रेस ने किया पलटवार

तेलंगाना के कार्यवाहक मुख्यमंत्री के. चंद्रशेखर राव द्वारा राहुल गांधी को “सबसे बड़ा मसखरा’’ कहे जाने को लेकर कांग्रेस ने गुरुवार को पलटवार किया और कहा कि तेलंगाना राष्ट्र समिति (टीआरएस) के प्रमुख ‘आधुनिक युग के मुहम्मद बिन तुगलक’ हैं और ‘प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की कठपुतली’ हैं। पार्टी के मुख्य प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने यह भी आरोप लगाया कि राव ने तेलंगाना की जनता के साथ ‘विश्वासघात’ किया है।

रणदीप सुरजेवाला ने कहा, ‘चंद्रशेखर राव आधुनिक युग के मोहम्मद बिन तुगलक हैं। वह बीजेपी और प्रधानमंत्री की कठपुतली हैं। वह उन लोगों के साथ खड़े हैं जिन्होंने तेलंगाना के गठन का विरोध किया और तेलंगाना के लोगों से किया गया कोई वादा पूरा नहीं किया। राव ने राज्य के साथ विश्वासघात किया है।’

 

Previous articleउत्तर प्रदेश: हिंदू धर्म के बारे में गलतफहमी का प्रचार करने के आरोप में 271 लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज
Next article‘लड़कियों के अपहरण’ की बात कहने वाले BJP विधायक की जीभ काटने वाले को कांग्रेस नेता देंगे 5 लाख रुपये का इनाम