अनिश्चिकालीन भूख हड़ताल के बीच हार्दिक पटेल ने जारी की अपनी वसीयत, आंखें भी दान करने की जताई इच्छा

0

गुजरात में पाटीदार समाज के नेता हार्दिक पटेल ने अपनी अनिश्चिकालीन भूख हड़ताल के नौवें दिन रविवार (2 सितंबर) को अपनी वसीयत जारी की। वह अपने समुदाय के लिए आरक्षण और किसानों की कर्ज माफी की मांग को लेकर अनशन पर हैं। जारी की गई वसीयत में हार्दिक ने कहा कि वह चाहते हैं कि उनकी संपत्ति का बंटवारा माता-पिता (भरत पटेल और ऊषा पटेल) और एक गोशाला के बीच हो। बता दें कि यहां वह 25 अगस्त से अनशन पर हैं।

@HardikPatel_

एक पाटीदार नेता ने कहा कि पटेल ने अपने माता-पिता, एक बहन, 2015 में कोटा आंदोलन के दौरान मारे गए 14 युवाओं के परिजनों और अपने गांव के पास एक पंजरापोल (बीमार और पुरानी गायों के लिए आश्रय) के बीच अपनी संपत्ति का वितरण किया है। पाटीदार अनामत आंदोलन समिति के प्रवक्ता मनोज पनारा ने अहमदाबाद के पास हार्दिक पटेल के निवास पर संवाददाताओं से कहा कि पटेल ने अपनी मृत्यु के बाद अपनी आंखें दान करने की इच्छा व्यक्त की है।

तृणमूल कांग्रेस, राकांपा और राजद समेत विभिन्न राजनीतिक दलों के नेताओं और प्रतिनिधियों ने पिछले नौ दिनों में पटेल से मुलाकात की है। हालांकि राज्य में सत्ताधारी बीजेपी सरकार ने अभी तक हस्तक्षेप नहीं किया है। पनारा ने दावा किया कि पटेल का स्वास्थ्य बिगड़ रहा है। उन्होंने पिछले नौ दिनों से कुछ नहीं खाया है। उन्होंने पिछले 36 घंटों से पानी भी नहीं पीया है।

उन्होंने कहा कि पटेल ने “अपने खराब स्वास्थ्य के बारे में डॉक्टर की सलाह पर विचार करते हुए” वसीयत तैयार की है। राजकीय अस्पताल के एक डाक्टर हार्दिक को देखने गए। उन्होंने कहा कि हमने उन्हें अस्पताल में भर्ती होने की सलाह दी है। उनका मूत्र और रक्तचाप सामान्य है, लेकिन हार्दिक ने खून की जांच कराने से इनकार कर दिया है।

Previous articleMan booked with son and two Muslim clerics for raping daughter-in-law
Next articleअटल और मोदी जब पाकिस्तान से लौटे तो आतंकवादी हमले हुए, लेकिन मैं शांति का संदेश लेकर आया: नवजोत सिंह सिद्धू